चौंकिए मत जनाब ! बीजेपी को मिला 144 करोड़ का चन्दा

दिल्ली ब्यूरो: जनता पर शासन करने के लिए कांग्रेस समेत कई पार्टियां जनता से चन्दा मांग रही है। बीजेपी भी चन्दा मांगने को तैयार है। चन्दा पाकर ये पार्टियां जनता पर शासन करेगी। चन्दा लेते समय जनता के लिए काम करने की बाते होती है लेकिन सत्ता मिलते ही जनता दूर हो जाती है। जनता इन नेताओं से मिल भी नहीं सकती। दुत्कार दिए जाते हैं। नेताओं और पार्टियों को व्यापारी खूब भाते हैं। काम उसी के लिए करते हैं ये नेता। इतिहास है इसका। लंबा इतिहास।

इधर चौकाने वाली खबर आ रही है कि वित्त वर्ष 2017-18 में बीजेपी को अब तक का सबसे बड़ा दान मिला है। 7 प्रमुख कंपनियों के एक समूह ट्रस्ट ने सत्ताधारी पार्टी को कुल 169 करोड़ रुपये में से 144 करोड़ रुपये का दान दिया है। खबर के अनुसार प्रूडेंट इल्केट्रोरल ट्रस्ट ने रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि उसने कांग्रेस और बीजू जनता दल को भी दान दिया है। अब तक हमेशा से छोटी राजनीतिक पार्टियों को दान देने वाले इस ट्रस्ट ने पहली बार राष्ट्रीय स्तर की पार्टी को सबसे बड़ा दान दिया है।

प्रूडेंट ट्रस्ट को पहले सत्या इलेक्ट्रोरल ट्रस्ट के नाम से जाना चाहता था। जिन कंपनियों ने इस ट्रस्ट के जरिए दान दिया है उनमें डीएलएफ (52 करोड़), भारती ग्रुप (33 करोड़), श्रॉफ ग्रुप 22 करोड़, टोरेंट ग्रुप (20 करोड़), डीसीएम श्रीराम (13 करोड़), केडिला ग्रुप (10 करोड़) और हल्दिया एनर्जी (8 करोड़) शामिल हैं।

इस ग्रुप ने मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस पार्टी को उस वक्त केवल 10 करोड़ रुपये दिए थे। 5 करोड़ रुपये ट्रस्ट ने बीजू जनता दल को दिए थे। इससे पहले ट्रस्ट ने शिरोमणि अकाली दल, समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल को भी दान दिया था। बता दें कि देश की 90 फीसदी कंपनियां केवल इस ट्रस्ट के जरिए ही राजनीतिक पार्टियों को चंदा देती हैं। भाजपा को 18 किश्तों में यह चंदा दिया गया था। कांग्रेस को चार और बीजेडी को तीन चेक के जरिए पैसा दिया गया था। देश में इस वक्त 22 पंजीकृत इलेक्ट्रोरल ट्रस्ट हैं, जिनमें प्रूडेंट सबसे बड़ा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper