छात्र से लेकर मजदूरों ने लगाई मदद की गुहर, सोनू सूद बोले- ‘माँ बाप से मिलने का समय आ गया’

मुंबई: मजदूरों के असली मसीहा बनकर सोनू सूद इन दिनों सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ पा रहे हैं । सोनू सूद ने इस संकट की घड़ी में प्रवासी मजदूरों के लिए वो काम कर दिखाया है जिसे करने में राजनीतिक तंत्र, प्रशासनिक तंत्र तक घुटने टेक चुका है । प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने को लेकर पिछले दिनों यूपी में कांग्रेस और बीजेपी के बीच मची खींचतान से किसको फायदा हुआ । लेकिन सोनू सूद के प्रयास दिख भी रहे हैं और सफल भी हो रहे हैं ।

सोनू सूद का ट्विटर अकाउंट ऐसे कई संदेशों से भरा हुआ है जिसमें उनके मदद की मांग की आस लगाए प्रवासी मजदूर या उनसे जुड़े लोग गुहार लगा रहे हैं । ऐसा कोई भी ट्वीट आने पर सोनू मदद का भरोसा दे रहे हैं । मदद की आस में जब एक शख्‍स ने उनसे घर जाने की गुहार लगाई तो सोनू सूद ने लिखा कि चिंता मत करो, दो दिन में अपने घर का पानी पियोगे । वहीं एक और शख्‍स को उम्‍मीदें देते हुए लिखा – सुनवाई हो गयी मेरे दोस्त। थोड़ा सब्र.. फिर गाँव के खेत खलियान। डिटेल्ज़ भेजो। सोनू सूद से छात्र भी मदद मांग रहे हैं ।

सोनू सूद ट्विटर पर उनसे मदद मांग रहे मजदूरों को भरोसा दिला रहे हैं कि अब परेशान होने की जरूरत नहीं है । वो सबकी मदद करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं । आपको बता दें सोनू सूद पिछले कुछ दिनों में कई सौ प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने का इंतजाम कर चुके हैं । इतना ही नहीं सोनू सूद ने मेडिकल स्‍टाफ के रहने को लेकर हो रही चिंता के समय अपने 6 मंजिला होटल को भी खोल दिया था ।

सोनू सूद की सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हो रही है । इंडस्‍ट्री की आलोचना करने वाले कमाल आर खान ने सोनू सूद को लेकर एक ट्वीट किया जिसमें उन्‍होने उनकी जी भरकर तारीफ की । उन्‍होने लिखा कि लोग आज सोनू सूद से मदद मांग रहे हैं, गूगल पर पीएम या सीएम को नहीं बल्कि सोनू सूद को ढूंढ रहे हैं । उन्‍हें पूरी उम्‍मीद है कि सोनू उनको घर पहुंचा सकते हैं । सोनू सूद ने केआरके के इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा कि भाई ईश्‍वर उनकी मदद कर रहा है मैं तो सिर्फ एक जरिया हूं ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper