जब किसी इंसान के कारण आप बहुत दुखी हो तो सिर्फ इन 4 बातों को याद करे

लखनऊ: दोस्तों दुनिया में ऐसे बहुत सारे लोग होते है जो हमें अधिक प्रिय होते है और हमें अपने जीवन में उन से बहुत ज्यादा अपेक्षा तथा उमीद होती है, लेकिन जब वही इंसान दिल तोड़ दे और आपके साथ विश्वास घात करे तब बहुत तकलीफ होती है लेकिन इस बात से परेशान ना हो क्योंकि जीवन में ऐसे मोड़ आते रहते है और आगे भी ऐसे लोग मिलते रहेंगे इस लिए इस बाद से खुद को दुखी करने से अच्छा यह होगा कि हम जीवन में हमेशा पॉजिटिव विचारो का सहारा लें और खुद पर भरोसा रखे,आज हम आप को कुछ अहम् बात बताने जा रहे है जो आपके आत्म विश्वास को और भी ज्यादा बढ़ा देगा.

जब किसी इंसान के कारण आप बहुत दुखी हो तो सिर्फ इन 4 बातों को याद करें

1 ) जब भी कोई आपका दिल दुखाये तो समझ ले कि अब तक सिर्फ आप उनकी परवाह करते थे लेकिन वे लोग आप की परवाह नहीं करते इस लिए आज से ही उनके बारे में सोचना और उनकी परवाह करना बंद कर दें.

2 ) हम ज्यादा परेशान तब होते है जब किसी अपने के द्वारा कहे गए बात को बार-बार सोचते है लेकिन समझने वाली बात तो यह है कि आप के लगातार सोचने या फिर खुद को तकलीफ देने से किसी बात का उपाय नहीं निकल सकता इसलिए अब से सब भूल जाये और अपना दिमाग तथा मन को कही और संचित करे.

3 ) अक्सर ऐसा होता है जीवन में कुछ लोग हमारे भले के लिए हमें अकेला छोड़ देते है और हमसे दूर हो जाते है ताकि हमें कोई अच्छी सिख मिल सके तो आप दूसरों के प्रति मन में द्वेष ना रखे और ऐसा विचार ना करे उस ने मेरे साथ बहुत गलत किया और अपने फिर अपने काम में लग जाए सब कुछ समय पर छोड़ दे क्योंकि समय बहुत शक्ति मान होता है यह सभी समस्या को सुलझा देता है.

4 ) जब आपका दिल टूट गया या फिर किसी पर से विश्वास उठ गया है तो आज से और अभी से किसी पर भी खुद से ज्यादा भरोसा करना छोड़ दीजिये क्योंकि अगर आप आगे भी लोगो पर आंख बंद कर भरोसा करेंगे तो ऐसा होगा और आप परेशान होते रहेंगे.

दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसा लगा यदि सच में अच्छा लगे तो कृपया इसे शेयर करे और लाइक करे हम ईश्वर से प्रार्थना करेंगे आपके जीवन में कभी कोई तकलीफ या गंभीर समस्या ना आये.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...

लखनऊ ट्रिब्यून

Vineet Kumar Verma

E-Paper