जब सीएम योगी ने सावित्री देवी को लगाया फ़ोन, हड़बड़ा कर बोली यह

देवरियाः खतरनाक कोरोना वायरस से इस वक्त पूरी दुनिया जंग लड़ रही है। वहीं लॉकडाउन से मजदूरों व आम लोगों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिसके लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्रमिकों के खाते में राहत स्वरूप रुपये भेजा है। इसमें पहले बकाया और वर्तमान मजदूरी शामिल हैं। UP के पांच जनपदों में CM ने श्रमिकों से बात की है। उसमें देवरिया भी शामिल हैं।

बता दें कि पथरदेवा विकास खंड क्षेत्र की मुसहर बाहुल्य ग्राम पंचायत मलवाबर निवासी सावित्री देवी पत्नी स्व. ओमप्रकाश मनरेगा जॉब कार्ड धारक है। इनका जॉब कार्ड संख्या दो हैं। इन्होंने एक साल में 98 दिन काम किया है। इनको 84 दिन का 15288 रुपये का भुगतान पहले हो चुका है। शेष 14 दिन का भुगतान 2548 रुपये बकाया था, जिसको मुख्यमंत्री ने लखनऊ से बैठकर एक क्लिक में पैसा खाते में भेज दिया।

सुबह सावित्री देवी के मोबाइल की घंटी घनघनाने लगी। सावित्री देवी ने जैसे ही फोन रिसीव किया उधर से आवाज आई- ‘हैलो मैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बोल रहा हूं।

सावित्री देवी (हड़बड़ा कर) प्रणाम
CM- गांव में साफ-सफाई, रोजगार व राशन कैसा है?

सावित्री देवी- नाहीं साहब गांव में सब कुछ ठीक बा। सबके काम व राशन मिलेला, हमने एकदम अच्छे से हईं।

CM-खाते में पैसा भेज दिया हूं मिला है कि नहीं?

सावित्री देवी- पैसा खाते में आ गइल बा।

ब्लाक प्रमुख सुब्रत शाही ने बताया कि हमारे क्षेत्र के लोगों का मुख्यमंत्री द्वारा हाल लेना सौभाग्य की बात है। इस गांव में सरकारी योजनाओं का लाभ सभी को मिल रहा है। महिला ने भी CM को बताई। हम लोग सरकार की मंशा सबका साथ सबका विकास के तर्ज पर काम कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper