जब से बाल विवाह पर रोक लगी तभी से शुरू हुआ लव जिहाद

भोपाल: पीएम मोदी की नसीहत के बावजूद भाजपा के नेताओं में बेतुके बयान देने की होड़ लगी हुई है। मध्य प्रदेश के भाजपा विधायक गोपाल परमार ने एक कार्यक्रम में कहा कि बाल विवाह पर जबसे रोक लगी है, तभी से लव जिहाद का बुखार चालू हो गया है। उन्होंने बाल विवाह के फायदे गिनाते हुए कहा कि जब से सरकार ने विवाह के लिए 18 साल की उम्र निर्धारित की है, लड़कियां भाग कर शादी करने लगी हैं।

आगर मालवा से भाजपा विधायक गोपाल परमार ने आजीविका और कौशल विकास दिवस कार्यक्रम में महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा पहले हमारे बड़े-बुजुर्ग संबंध (शादी) तय कर देते थे। भले ही उनके बचपन में ही विवाह कर दिए जाते थे, लेकिन वह संबंध देर तक चलता था। उसकी जड़ें ज्यादा गहरी होती थीं। उन्होंने कहा सरकार ने जब से 18 साल का नियम बनाया है, लड़कियां भागने लगीं हैं।

लव जिहाद का बुखार चालू हो गया। हमें पता ही नहीं होता कि हमारी छोरी क्या कर रही है। वह हमें बता कर जाती है कि कोचिंग क्लास जा रही है, लेकिन वह वास्तव में वहां जा रही है, इसका ध्यान कौन रखेगा, बताओ। अगर वह किसी लड़के के साथ भाग गई तो आपकी इज्जत का कबाड़ा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper