जमीन दिलाने के नाम पर लाखों रुपये हड़पने वाला जालसाज गिरफ्तार

लखनऊ ब्यूरो। आशियाना थाना पुलिस ने शनिवार को एक जालसाज को गिरफ्तार किया। पकड़ा गया अभियुक्त शहर में जमीन दिलाने के नाम पर लोगों से लाखों रुपये की हड़प कर चुका है। पुलिस ने उसके खिलाफ कार्रवाई कर जेल भेज दिया है।

प्रभारी निरीक्षक अखिलेश चन्द्र पाण्डेय ने बताया कि रमाबाई के पास से विवेकखण्ड निवासी विजेन्द्र गौर को गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया युवक खुद को प्रापर्टी डीलर बताता है। पूछताछ पर पकड़े गए अभियुक्त ने बताया कि वह लोगों को जमीन दिलाता व उससे मिलने वाले कमीशन से अपना घर चलाता है।

लालच में आकर डूप्लीकेट जमीनों के दस्तावेज तैयार कर फर्जी एलॉटमेंट पत्र जारी कर लोगों को जमीन दिलाना शुरु कर दिया। उसने फर्जी तरीके से कई लोगों को जमीन दिलाने के नाम पर लाखों की रुपये ऐठे हैं।

थाना प्रभारी ने बताया कि पकड़े गए अभियुक्त ने सूबेदार, अंकित सिंह समेत छह लोगों को जमीन दिलाने के नाम पर लाखों रुपये की ठगी की है। पकड़े गए अभियुक्त के खिलाफ कार्रवाई कर जेल भेज दिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper