जम्मू-कश्मीर में हिमस्खलन का कहर, तीन जवान शहीद, पांच अन्य लोगों की भी मौत

श्रीनगर: उत्तरी कश्मीर में हिमस्खन के कारण तीन जवान शहीद हो गए है जबकि दो जवान लापता बताए जा रहे है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, 45 राष्ट्रीय रायफल के पांच जवान इस तूफान की चपेट में आ गए। जानकारी मिलते ही सेना ने बचाव कार्य शुरू किया। जब तक जवानों की टुकड़ी बर्फ में दबे सैनिकों तक पहुंचती तब तक तीन जवान शहीद हो चुके थे। दो लापता जवानों की तलाश अभी जारी है। सेना के सूत्रों के मुताबिक, पिछले 48 घंटों में हुई भारी बर्फबारी के कारण, उत्तरी कश्मीर में कई जगह हिमस्खलन की घटनाएं सामने आई हैं।

इस अलावा मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले में सोनमर्ग के गग्गेनेर क्षेत्र के पास कुलान गांव में हिमस्खलन की चपेट में आने से 5 लोगों की मौत हो गई है। आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि नौ लोगों का एक दल कल रात जिले के कोलन में बचाव अभियान के लिए जा रहा था कि तभी सभी हिम्सखलन की चपेट में आ गए। पुलिस ने स्थानीय नागरिकों की मदद से तलाशी अभियान चलाकर चार लोगों को सुरक्षित बचा लिया।

उन्होंने कहा कि पूरी रात तलाशी अभियान जारी रहा और मंगलवार सुबह पांच लोगों के शव बरामद किए गए। कुपवाड़ा, बांदीपोरा और बारामुला जिले में हिमस्खलन के कारण कई मकानों को नुकसान पहुंचा है। संभागीय प्रशासन ने उत्तरी और मध्य कश्मीर के ऊपरी इलाकों में हिमस्खलन की चेतावनी जारी करते हुए लोगों से हिमस्खलन की आशंका वाले इलाकों में नहीं जाने का आग्रह किया है।

उधर सोमवार सुबह से हो रही बारिश के कारण जम्मू में जनजीवन काफी अस्त व्यस्त हुआ। बारिश से ठंड काफी बढ़ गई है। लोगों को सारा दिन आग सेक कर समय व्यतीत करना पड़ा है। बाजारों में भी रौनक गायब ही रही। कम संख्या में लोग बाजारों में सामान खरीदने आए। वहीं, बारिश से सड़कों में पानी इकट्ठा हो गया। इस कारण शहर के डोगरा चौक, कनाल रोड, महेशपुरा चौक, पनामा चौक समेत अन्य जगहों में जल भराव रहा। इस कारण वाहन चालकों को वाहन चलाने में परेशानी आई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper