जल्द ही भारत ही नहीं इस टीम के साथ खेल सकते हैं धोनी, बांग्लादेश बोर्ड ने मांगे सात खिलाड़ी

नई दिल्ली। बांग्ला‍देशी टीम का भारत दौरा कुछ खास नहीं रहा, पहले टी-20 सीरीज और दो टेस्ट मैचों की सीरीज में मात खाई। इसी बीच बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने 18 मार्च और 21 मार्च को वर्ल्ड इलेवन के खिलाफ दो T20 मैच में एशिया इलेवन के लिए BCCI से महेंद्र सिंह धोनी सहित 7 खिलाड़ियों को देने की अनुमति मांगी है। आगे जानें कौन है ये सात खिलाडी?

दरअसल, भारत दौरे पर बुरी तरह से हार के बाद बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने बीसीसीआई से सात शीर्ष खिलाड़ी मांगे हैं। बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने महेंद्र सिंह धोनी के अलावा, विराट कोहली, जसप्रीत बुमराह, हार्दिक पंड्या, रोहित शर्मा, भुवनेश्वर कुमार और रवींद्र जडेजा की उपलब्धता का भी अनुरोध किया है।

बीसीबी ने बीसीसीआई को एक प्रस्ताव भेजा है और एमएस धोनी सहित 7 खिलाड़ियों के लिए अनुरोध किया है, जिन्होंने इस साल इंग्लैंड में विश्व कप के बाद से कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला है। धोनी के भविष्य पर कोई स्पष्टता नहीं है क्योंकि न तो उन्होंने खुद को फिर से भारत के लिए खेलने के लिए उपलब्ध कराया है और न ही उन्होंने अपने संन्यास के बारे में कुछ भी आधिकारिक ऐलान किया है।

बांग्लादेश बोर्ड के मुख्य कार्यकारी निजामुद्दीन चौधरी ने कहा कि बांग्लादेश एशिया इलेवन और रेस्ट ऑफ वर्ल्ड के बीच दो टी20 इंटरनेशनल मैच की मेजबानी करेगा। आईसीसी द्वारा इन दोनों मैचों को पहले ही अंतरराष्ट्रीय दर्जा दिया जा चुका है। वह बीसीसीआई सहित एशिया के बाकी बोर्ड से भी बात कर रहे हैं कि वे इन दो मैचों में शामिल होने के लिए अपने खिलाड़ियों को अनुमति दे। आपको बता दें दो मैचों की टेस्ट सीरीज में टीम इंडिया ने बांग्लादेश का 2-0 से सूपड़ा साफ कर दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper