जागरूकता अभियान ‘अपनी भाषा सुधारिए’ सफलता की ओर

लखनऊ: ‘डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला’ की ओर से प्रयागराज से 5 नवम्बर से आरंभ अभिनव और अभूतपूर्व अभियान ‘अपनी भाषा सुधारिए’ दैनिक जागरण’ समाचारपत्र-कार्यालय से आरम्भ होकर दूरदर्शन-केन्द्र, प्रयागराज में विराम लिया है, जो कि उक्त शैक्षिक अभियान का यह प्रथम चरण था। दैनिक जागरण के सम्पादकीय कक्ष में आत्मीयपूर्ण वातावरण में समाचारपत्रों में प्रयोग किये जा रहे अशुद्ध शब्दों पर गम्भीरतापूर्व विचार-विनिमय किया गया।

आऊट-पुट-प्रभारी सुरेश पाण्डेय के नेतृत्व में दैनिक जागरण के पत्रकारों (मुख्य संवाददाता, संवाददाता, डेस्क पत्रकार, छायाकार आदि) ने खुलकर अपनी समस्याएँ बतायीं, साथ ही ऐसे प्रश्न भी किये थे, जिनके कारण अब शब्दों का मानकीकरण अनिवार्य हो गया है। पत्रकारगण को पाठशाला के शिष्टमण्डल ने बताया कि वे पत्रकार मित्रों को अपने शब्दों को लेकर कोई बाध्यकारी स्थिति उत्पन्न करने नहीं आये हैं, बल्कि सरल शब्दों को शुद्धता के साथ प्रस्तुत करने का आग्रह करते हैं।

पाठशाला की ओर से शासकीय महाविद्यालय के पू्र्व-प्रधानाचार्य और आलोचक डॉ. विभूराम मिश्र ने बताया कि सभी भारतीय भाषाएँ आर्यभाषाओं (बंगला, गुजराती, संस्कृत आदि) से निकली हुई हैं, इसलिए यदि शुद्धता के प्रति विशेष ध्यान किया जाये तो शब्द-सर्जन की क्षमता में वृद्धि होगी। डॉ. मिश्र ने यह भी कहा कि जो अभारतीय शब्द हिन्दी के साथ घुल-मिल गये हैं, उन्हें उनके उसी रूप में ग्रहण कर लेना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper