जागरूकता के बल पर कैन्सर को परास्त किया जा सकता है, सरकार करेगी हर स्तर पर सहयोग- केशव मौर्य

लख़नऊ। सूबे के उपमुख्यमंत्री श्री केशव मौर्य ने कहा है कि केवल जागरूकता के बल पर ही ब्रेस्ट कैन्सर को परास्त किया जा सकता है। इसके लिए आवश्यक है कि ब्रेस्ट कैन्सर के विरुद्ध – एक युद्ध संगोष्ठी यहाँ हो रही है, वह हर शहर में हो, हर गांव में हों।

आयोजकों बधाई देते कहा है कि आयुष्मान भारत योजना में अगर यह बीमारी नहीं है तो उसे शामिल कराया जाएगा।
इंदिरा गान्धी प्रतिष्ठान में आयोजित ब्रेस्ट कैन्सर के विरुद्ध एक युद्ध संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि श्री मौर्य ने कहा कि जिस तरह से हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता को मंत्र के रूप में लिया है, स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत के नारे को सगुण रूप देने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है, उसी तरह से हम सभी लोगों को ब्रेस्ट कैन्सर के कारकों और उससे बचाव के तरीकों को जन जन तक पहुंचाना होगा। यह सबकी जिम्मेदारी है। इस कार्य में सरकार हर सम्भव सहयोग करेगी। उन्होंने उम्मीद जतायी कि हमारे देश में में प्रतिभाओं की कमीं नहीं है। ये प्रतिभाएं जरूर इलाज तलाश लेंगीं।

संगोष्ठी में खास मेहमान के रूप में उपस्थित विधान परिषद सदस्य श्री यशवन्त सिंह ने कहा कि कैन्सर मुक्त भारत में ही सशक्त भारत का मंत्र समाहित है। इस मन्त्र को सगुण रूप देने के लिए हम सभी लोगों को सन्कल्प लेना होगा कि हम सजग रहकर केवल ब्रेस्ट कैन्सर को नहीं , हर तरह के कैन्सर को परास्त करेंगे।
आयोजकों को बधाई देते कहा कि इच्छा शक्ति से कैन्सर पर भी विजय पाया जा सकता है, लेकिन इस विजय के लिए जरूरी है कि केवल ट्रस्ट नहीं, हम सभी लोगों को इसके लिए सन्कल्प लेना होगा।

खास मेहमान लोक जन शक्ति पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री मणिशंकर पांडेय जी ने कहा कि यह रोग गांवों में अधिक है, उधर ज्यादा ध्यान दिया जाना चाहिए। लखनऊ विश्वविद्यलय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष श्री रमेश श्रीवास्तव ने कहा कि कैन्सर से बचने के लिए जरूरी सजगता को देने गृहविज्ञान के कोर्स में शामिल किया जाए।
इस अवसर पर आई आई टी मुम्बई से आए कैन्सर वैज्ञानिक डॉक्टर संजीव श्रीवास्तव ने कैंसर कारकों व परहेज पर प्रकाश डाला तथा कहा कि मोबाइल और ध्वनि तरंगो के बढ़ते इस्तेमाल से आने वाले भविष्य में इस तरह बीमारियाँ और जटिल हो जाएंगी। डॉक्टर राजीव सक्सेना अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी बाराबंकी ने भी वर्तमान में भारत और विश्व में उपलब्ध ब्रैस्ट कैंसर के इलाज की जानकारी दी और कहा कि सजगता ही इलाज का मंत्र है।
डॉक्टर अंजलि मिश्रा ब्रैस्ट कैंसर विशेषज्ञ पी. जी. आई. ने ब्रैस्ट कैंसर के शुरुआती लक्षणों और ब्रैस्ट कैंसर के विभिन्न स्टेजों व उनमें की जाने वाली अलग अलग थेरेपी के बारे में जानकारी दी और कहा कि इसे बचने के लिए समय समय पर स्तन की जांच कराते रहना कराते रहना चाहिए। इस बीमारी के शुरुवाती लक्षण के समय ही इलाज कराया जाए तो जीवन बच सकता है।
इस अवसर पर कैन्सर के विरुद्ध – एक युद्ध में विशेष सहयोग के लिए डॉक्टर अंजलि मिश्रा, डॉक्टर संजीव श्रीवास्तव, डॉक्टर राजीव सक्सेना, प्रेदश भाजपा प्रवक्ता श्री नवीन श्रीवास्तव, लखनऊ विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष श्री रमेश श्रीवास्तव और वरिष्ठ पत्रकार धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव को एस एस बी मेमोरियल ट्रस्ट की ओर से सम्मानित किया गया।
उत्तर प्रदेश रत्न श्रीमती अलका भटनागर ने अपने गीतों से समां बांधे रखा। ट्रस्ट के अध्यक्ष डॉक्टर इन्द्रसेन श्रीवास्तव और सचिव आशा सक्सेना सभी अतिथियों का स्वागत किया और स्नेह व सहयोग के लिए आभार जताया।उत्तराखंड के वरिष्ठ पत्रकार श्री संजय श्रीवास्तव, प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता नवीन श्रीवास्तव, जौनपुर के अजय श्रीवास्तव, ग़ाज़ीपुर के रामप्रताप सिंह पिंटू, धीरेन्द्र राय और धीरज कुमार ने उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य का इन्दिरा गान्धी प्रतिष्ठान के द्वार पर स्वागत किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper