जानिए कितनी बैटरी बचने पर चार्ज करना चाहिए मोबाइल

मोबाइल आज हमारी जिंदगी की मूलभूत आवश्यकताओं में से एक बन चुका है हम रोज अपने मोबाइल को चार्ज करते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपको किस वक्त मोबाइल को चार्ज करना चाहिए।

हमारे शरीर की तरह ही हमारा मोबाइल एक खास प्रणाली पर काम करता है। हमारे मोबाइल की बैटरी में एनर्जी को संरक्षित रखने के लिए ख़ास प्रकार के पॉइंट होते हैं जो ऊर्जा को संरक्षित रखने का कार्य करते हैं। जब एक के बाद एक प्वाइंटों में जमा सारी एनर्जी खत्म हो जाती है तो हमारा मोबाइल स्विच ऑफ हो जाता है।

वायुसेना की कार्यवाही से प्रत्येक भारतीय नागरिक का चौड़ा हुआ सीना

हाल ही में हुए शोध के मुताबिक हमें मोबाइल की बैटरी को पूर्ण रुप से डिस्चार्ज नहीं होने देना चाहिए। पूर्ण रुप से रिचार्ज होने पर बैटरी की क्षमता पर नकारात्मक असर पड़ता है और इससे बैटरी कई बार ओवरहीट का शिकार होने लगती है और यही बाद में बैटरी के ब्लास्ट होने का कारण बन जाता है।

टेक एक्सपर्ट्स के मुताबिक अगर आपके मोबाइल की बैटरी पूर्ण रूप से डिस्चार्ज हो जाती है तो ऐसे ही चार्ज होने में अधिक समय लगता है तथा इससे बैटरी बैकअप कम होने की संभावना भी रहती है। इसलिए अगली बार जब आप मोबाइल चलाएं तो इन सभी बातों का ख्याल रखें। और जब बैटरी 10 से 20 परसेंट बचे तो मोबाइल चार्ज कर लेना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper