जानिए कितनी बैटरी बचने पर आपको करना चाहिए अपना फ़ोन चार्ज

लखनऊ: आज के समय मे फोन हमारा जीवन बन चुका है और हम सभी की जरूरत भी बन चुका है।शायद ही अब कोई ऐसा काम होगा जो फोन द्वारा संभव नही होगा।आज के इस समय मे ऐसा कोई व्यक्ति नही है जिसके पास फोन नही होता।चाहे कोई गरीब व्यक्ति हो या कोई अमीर हर व्यक्ति के पास उसकी जरूरत पूर्वक फोन जरूर होगा। हम सभी फोन तो इस्तमाल कर रहे है लेकिन क्या हमें इसके बारे में पूरी जानकारी है इस सवाल का जवाब है जी नही हमे इसके बारे में पूरी जानकारी नही है।क्या हम जानते है हमे अपना फोन कब चार्ज करना चाइये।चलिए पड़ते है।

जिस तरह से हमारा शरीर काम करता है कुछ उसी प्रकार फोन की बैटरी भी प्रणाली का काम करती है।फोन की रचना के दौरान बैटरी को जमा करने के लिए उसमे कुछ खास पॉइंट का निर्माण करा गया जिसे की उसमे ऊर्जा को जमा कर सके।जब इस पॉइंट्स में ऊर्जा खत्म हो जाती है तो आपका फोन स्विच ऑफ हो जाता है।

एक शोध के अनुसार ये बताया गया कि आपको कभी भी अपने फ़ोन की ऊर्जा पूरी खत्म होने नही देनी चाइये और साथ ही आपको अपनी बैटरी को पूरा चार्ज भी नही करना है ऐसा करने से बैटरी के फटने के चांस भी होते है।पूरा चार्ज करने से बैटरी गरम हो जाती है जिसे बैटरी का फटने का डर बना रहता है।

फोन एक्सपर्ट द्वारा ये सुजाव दिए गए है कि आप कभी भी बैटरी को पूर्ण रूप से खत्म होने मत दीजिये और ना ही बैटरी को पूरा चार्ज करिए। जब आपकी बैटरी 10-20 के बीच में रहे इसे चार्ज करने को लगा दीजिये और 90% होने तक इसे चार्ज कर लीजिए। आशा करते है ये पढ़ने के बाद जब कभी भी आप फोन को चार्ज पर लगाएंगे तो इन बातों को ध्यान रखेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper