जानिए, सीआरपीएफ के एक जवान के जज्बे की दास्तां

सीआरपीएफ के जवानों में कितना जज्बा होता है, यह जानने के लिए 2०8 कोबरा बटालियन के उस जवान के बारे में जानें, जिसने नक्सलियों से मुठभेड़ के दौरान पैर में गोली लग जाने के बाद भी हिम्मत नहीं हारी और जख्मी हालत में लगभग 8 किलोमीटर का रास्ता पैदल चलकर जख्मी हालत में ही पैदल चलकर तय किया।

सीआरपीएफ की तरफ से आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस जाबांज जवान की तस्वीर साझा की गई है। ट्वीट में बताया गया है कि छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों से मुठभेड़ के दौरान एक गोली कमांडो प्रकाश चंद के पैर को भेद गई। इसके बाद भी वह भयंकर पीड़ा में वीरता के साथ लड़े और 8 किलोमीटर तक पैदल चले। ट्वीट में आगे लिखा गया-यह उनका स्टाइल है जब वे कहते हैं आज कुछ तूफानी करते हैं। सीआरपीएक की तरफ से शेयर की गई इस तस्वीर में प्रकाश चंद एक स्ट्रेचर पर दिख रहे हैं। उनके साथ कुछ और जवान भी दिख रहे हैं। तस्वीर में प्रकाश चंद अंगूठे से इशारा कर बता रहे हैं कि सब ठीक है।

18 फरवरी को भी सुकमा में पुलिस और नक्सलियों के बीच करीब 5 घंटे तक मुठभेड़ हुई थी। इस मुठभेड़ में एक नक्सली को मार गिराया गया था, लेकिन एसटीएफ और डीआरजी के दो जवान शहीद हो गए थे। सुकमा में भेज्जी थाने के इलाके में सड़क निर्माण के दौरान नक्सलियों ने कंपनी के मैनेजर को गोली मार दी थी। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और मुठभेड़ चली, जिसमें पुलिस के छह जवान भी घायल हो गए थे।

 

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper