जियो गीगाफाइबर की व्यवसायिक सेवा 5 सितंबर से होगी शुरू

मुंबई: रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने सोमवार को जियो गीगाफाइबर को लांच करने की घोषणा की और कहा कि ये सेवा व्यवसायिक रूप से 5 सितंबर से उपलब्ध होंगी। अंबानी ने 42 आमसभा में कंपनी के शेयरधारकों से बात करते हुए कहा कि टैरिफ की दरें 700 रुपये से 10,000 रुपये प्रति माह के बीच होगी।

उन्होंने कहा, “हम वैश्विक दरों से दस गुणा कम कीमत पर अपने प्लान्स उपलब्ध कराएंगे, ताकि यह सबकी पहुंच में हो। जियोफाइबर प्लान्स 700 रुपये से 10,000 रुपये प्रति माह के बीच होगा। जियो गीगाफाइबर उन इलाकों में सबसे पहले पहुंचाया जाएगा, जहां के लोगों ने सबसे ज्यादा रुचि दिखाई है।”

उन्होंने आगे कहा कि कंपनी ने देश भर के इच्छुक लोगों के लिए पिछले साल 15 अगस्त पर पंजीकरण शुरू किया है। अंबानी ने कहा, “हमें करीब 1,600 शहरों से 1.5 करोड़ से अधिक पंजीकरण मिले हैं, और इसके आधार पर हमने इन 1,600 शहरों के 2 करोड़ घरों और 1.5 करोड़ व्यवसायिक प्रतिष्ठानों तक पहुंचने की योजना बनाई है।”

आरआईएल के चेयरमैन ने कहा कि जियो गीगाफाइबर के ग्राहकों को 1 जीबीपीएस तक का ब्रांडबैंड स्पीड हासिल होगा, साथ ही एक लैंडलाइन फोन कनेक्शन भी दिया जाएगा, जिसके लिए अलग से कुछ नहीं देना होगा। इसके अलावा ग्राहकों को एक सेट-टॉप-बॉक्स भी दिया जाएगा।

उन्होंने आगे कहा कि सालाना प्लान लेने वाले जियो गीगाफाइबर के सभी ग्राहकों को एक एचडी (हाई डेफिनेशन) या 4के एलईडी टेलीविजन और एक 4के सेट-टॉप-बॉक्स दिया जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper