जीवन में इन 10 बातों का हमेशा रखें ध्यान, हर समस्या से मिलेगा निजात

आजकल की भागदौड़ भरी जिंगदी में कोई भी व्यक्ति सुखी जीवन व्यतीत नहीं कर रहा है. हर व्यक्ति को कोई न कोई समस्या का सामना करना पड़ रहा है. कई सारे लोग हैं जो इन घरेलु परेशानियों से निजात पाने के लिए कई सारे उपाय करते हैं. तो कुछ पूरी दुनिया में उपायों को
ढ़ूंढते रहते हैं लेकिन समस्या खत्म नहीं होती. इसकी सबसे बड़ी कहीं न कहीं आपके अंदर ही छिपी होती है. यह दुनिया की सबसे बड़ी सच्चाई है कि जबतक आप खुद के अंदर बदलाव नहीं करेंगे आपको समस्या घेरे रहेगी. हमारे धर्म में ऐेसे कई नियम हैं जिनका पालन कर लेने मात्र से ही व्यक्ति की आधी समस्याएं हल हो सकती है. इसलिए अगर आपको नहीं पता तो आज हम आपको 10 ऐसी बातें बताएंगे जिनका आपने पालन कर लिया तो आपको परेशानियों से मुक्ति मिल जाएगी और आप सुखी जीवन व्यतीत कर पाएंगे. तो आइए जानते हैं…

1. ईश्वर को हमेशा सर्वोपरि मानें और एकनिष्ठ बने रहें।
2. व्यक्ति को रोज़ मंदिर जाना चाहिए।
3. प्रतिदिन संध्या वंदन करें, सकारात्मकता बनी रहती है।
4. इस दस तरह के पापों से बचकर रहें।
(दूसरों का धन हड़पना, निषिद्ध कर्म, देह को सबकुछ मानना, कठोर वचन, झूठ बोलना, निंदा करना, बकवास करना, चोरी करना, दूसरों को दुख देना, पराए स्त्री-पुरुष से संबंध)।
5. वेद को साक्षी मानें और जब भी समय मिले गीता पाठ करें।
6. सात्विक जीवन का अनुसरण करें, आश्रमों के अनुसार जीवन को ढालें।
7. हर हिंदू के पांच नित्य कर्तव्यों को जानकर उसका पालन करें।
8. सभी को समान समझें और छुआछूत का भाव ना रखें।
9. हिंदुओं के 16 संस्कारों का पालन करें।
10. संयुक्त परिवार का हमेशा पालन करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper