जेल जीवन से रूबरू होना है तो टिकट खरीदकर तिहाड़ में बिताइए एक रात

नई दिल्ली: अगर आप जेल के परिवेश को नजदीक के महसूस करना चाहते हैं, या किसी आने वाले संकट को टालने के लिए किसी सुरक्षित स्थान की तलाश में हैं, तो तिहाड़ जेल प्रशासन ने जनसामान्य के लिए यह सुविधा उपलब्ध कराई है। आप टिकट खरीद कर तिहाड़ में एक रात बिताइए और एक कैदी के जीवन को नजदीक से महसूस कीजिए। तिहाड़ जेल प्रशासन फील द जेल योजना के तहत जेल परिसर में ऐसी चार सेल बना रहा है, जिनमें आप एक तय शुल्क देकर आप रात बिता सकते हैं।

इस सेल में उसमें टीवी, एलईडी लाइट्स, इंग्लिश-हिंदी पत्र-पत्रिकाएं, अटैच्ड टॉयलेट-बाथरूम आदि सब कुछ होगा। बाहर निकलते ही मॉर्निंग वॉक के लिए शानदार नजारे वाला पार्क भी होगा। तिहाड़ में ‘फील द जेल’ कॉन्सेप्ट के तहत बनाए जा रहे वन नाइट स्टे वाली सेलों का काम अब अंतिम चरण में पहुंच गया है। अभी सेल का किराया तय नहीं हुआ है, लेकिन माना जा रहा है कि वन नाइट स्टे का यह चार्ज 500 रुपए के आसपास हो सकता है।

यह उन लोगों की इच्छा पूरी करेगा, जो जेल देखना चाहते हैं। इससे उन लोगों को भी मदद मिलेगी, जो मानते हैं कि किसी तरह जेल की एक रोटी खाकर या बिना अपराध वहां ठहरकर अपने ऊपर आई किसी परेशानी को टाल सकते हैं। सेल में रात गुजारनेवालों को जो खाना परोसा जाएगा, वह कैदियों द्वारा ही बनाया गया होगा। हालांकि उन्हें तिहाड़ के खतरनाक कैदियों से दूर रखा जाएगा।

लेकिन इसमें कई चुनौतियां भी हैं। लोगों को सेलों में उसी तरह से रहना होगा, जैसे बाकी कैदी रहते हैं। मसलन- फर्श पर सोना होगा। खाना भी उसी तरह से खाना होगा। गर्मियों में पंखे का ही इंतजाम होगा। सर्दियों में फर्श पर कंबल बिछाकर सोना पड़ेगा। लू से बचने के इंतजाम खुद करने होंगे। सेल को तैयार करने का काम अब लगभग अंतिम चरण में है। इन सेल में एक रात में 40 लोग रुक सकेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper