जॉनसन मामले में मरीजों को मुआवजा ‎दिलाएगी सरकार!

मुंबई: सरकार ने जॉनसन ऐंड जॉनसन का कूल्हा प्रत्यारोपण लगाने वाले मरीजों की पहचान कर उनको मुआवजा ‎दिलाने की तैयारी कर रही है। इसके लिए पूरे देश में व्यापक अभियान चलाया जाएगा। मरीजों की पहचान के बाद सरकार हर मामले में मुआवजे की राशि तय करेगी और फिर दावे के निपटाने के लिए कंपनी से संपर्क करेगी।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा ‎कि अगर कंपनी ने दावों को मानने से इनकार किया तो फिर सरकार आपराधिक प्रक्रिया संहिता के तहत जनहित में उसके खिलाफ मामला दायर करेगी। भारत पहला देश होगा जहां सरकार ने न केवल मरीजों की पहचान का जिम्मा उठाया है बल्कि वह उन्हें मुआवजा दिलाने के लिए भी प्रतिबद्घ है।

आमतौर पर मरीज ही ऐसे मामलों में अदालत की शरण लेते हैं। जेऐंडजे की सहयोगी कंपनी डीपईज एएसआर हिप रिप्लेसमेंट सिस्टम ने भारत में कूल्हे बदलने के लिए 4,700 ऑपरेशन किए थे। लेकिन एएसआर हेल्पलाइन के जरिये केवल 882 मरीजों की ही पहचान हो पाई है। डीपई ने सितंबर 2010 में देश में प्रतिपूर्ति प्रक्रिया और एएसआर हेल्पलाइन शुरू की थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper