जोधपुर में अस्पताल की घोर लापरवाही, 4 बच्चों को चढ़ाया एक्सपायरी डेट का ग्लूकोज, जांच के आदेश

जोधपुर: कोरोना संकट के बीच राजस्थान के जोधपुर में एक अस्पताल में घोर लापरवाही का मामला सामने आया है. जोधपुर के उम्मेद अस्पताल में चार बच्चों को कथित तौर पर एक्सपाइरी डेट का ग्लूकोज चढ़ा दिया गया. अच्छी बात ये है कि बच्चों की हालत ठीक है और उन्हें किसी तरह की शिकायत नहीं है. फिलहाल, इस मामले में जांच के आदेश दे दिए गए हैं. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक अस्पताल की सूपरिटेंडेंट डॉ. रंजना देसाई ने बताया, ‘मामले में जांच पड़ताल के लिए हमने एक कमेटी गठित की है. अगर इस मामले में किसी भी गलती पाई जाती है तो एक्शन लिया जाएगा. बच्चों की स्थिति अभी ठीक है. बच्चे अभी बिल्कुल ठीक हैं.’

अस्पताल के वार्ड में एक्सपायरी डेट का ग्लूकोज क्यों पड़ा था यह जांच का विषय है. लेकिन ऐसा लग रहा है दो स्तर पर लापरवाही हुई. न तो इंचार्ज ने देखा और न ही ग्लूकोज चढ़ाने वाले ने. जोधपुर के इस अस्पताल में भले ही घोर लापरवाही का मामले देखने को मिला है लेकिन कोरोना रिकवरी रेट के मामले में राजस्थान देशभर में कोरोना प्रभावित राज्यों में नंबर वन हो गया है. राजस्थान में कोरोना के मरीजों के ठीक होने का डर 80.2 फीसदी हो गया है. राजस्थान में करीब 8.45 लाख लोगों की जांच हुई है जिसमें से 19000 के आसपास कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं. मगर कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या राजस्थान में 3307 ही है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper