ज्यादा प्रोटीन शेक पीने से मोटापे व मौत का खतरा, एक अध्ययन में किया गया दावा

लंदन: एक ताजा अध्ययन में दावा किया गया है कि बहुत ज्यादा प्रोटीन शेक का सेवन करने से मोटापे के साथ-साथ समय से पहले मौत का खतरा भी बढ़ जाता है। यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी के चार्ल्स पेरकिन्स सेंटर के अनुसंधानकर्ताओं ने एक जांच की जिसके जरिए वह ये जानने की कोशिश कर रहे थे कि प्रोटीन पाउडर में मौजूद ब्रांच्ड चेन अमिनो ऐसिड यानी बीसीसीए का बहुत ज्यादा सेवन करने से शरीर पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है। बीसीसीए सप्लिमेंट्स पाउडर के रूप में मिलते हैं जिन्हें पानी में मिलाकर शेक के रूप में तैयार कर इसका सेवन किया जाता है।

नेचर मेटाबॉलिज्म नाम के जर्नल में प्रकाशित इस स्टडी के नतीजे बताते हैं कि बीसीसीए भले ही मसल्स को बनाने में मदद करता हो लेकिन इसका व्यक्ति के शरीर पर नकारात्मक असर भी पड़ता है। इससे न सिर्फ वजन बढ़ने का खतरा रहता है बल्कि समय से पहले मौत का खतरा भी कई गुना बढ़ जाता है। इस स्टडी की को ऑथर सामान्था सोलोन ने कहा- इस नई रिसर्च ने यह दिखाने की कोशिश की है हमारे शरीर में अमीनो ऐसिड का बैलेंस बनाए रखना जरूरी है। लिहाजा यह जरूरी है कि आप अलग-अलग स्त्रोतों से प्रोटीन को हासिल करें ताकि शरीर में अमीनो ऐसिड का बैलेंस बना रहे।

लिहाजा सिर्फ प्रोटीन शेक पर निर्भर रहने की बजाए चिकन, फिश, अंडा, बीन्स, दाल और नट्स का सेवन करना चाहिए ताकि इन अलग-अलग सोर्सेज से प्रोटीन मिल सके। स्टडी में अनुसंधानकर्ताओं ने यह भी पाया कि खून में बीसीसीए का लेवल अगर अधिक हो जाए तो यह नींद में मदद करने वाले हैपी हॉर्मोन सेरोटोनिन के लेवल को कम कर देता है जिससे व्यक्ति की नींद भी कम हो जाती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper