ज्येष्ठ के बड़े मंगल पर राजधानी में जगह-जगह लगे भण्डारे

लखनऊ: ज्येष्ठ के बड़े मंगल पर राजधानी लखनऊ में जगह-जगह भण्डारे लगे हैं। भण्डारे में कहीं बूंदी, चना, कहीं कढ़ी चावल, शर्बत और अधिकांश जगहों पर पूड़ी सब्जी का प्रसाद लोंगों को खिलाया जा रहा है। वहीं लखनऊ के हनुमान मंदिरों में भोर से ही दर्शनार्थियों की भारी भीड़ है। मंदिर परिसर बजरंग बली के जयकारों से गूंज रहे हैं।

लखनऊ में हनुमान सेतु स्थित हनुमान मंदिर सबसे बड़ा है। यहां पर सबसे ज्यादा भीड़ देखने को मिली। मंदिर परिसर में दर्शन पूजन के दौरान श्रद्धालुओं को अव्यवस्था न हो इसलिए प्रशासन ने पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात किया है। मंगलवार को दक्षिणमुखी हनुमान जी का दर्शन करना सर्वाधिक पुण्यदायी माना जाता है। हजरतगंज में स्थित दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर में श्रद्धालुओं की काफी गहमा-गहमी है। मंदिर में श्रद्धालु मालपुआ व बूंदी का भोग लगा रहे हैं। पण्डाल में हनुमान चालीसा, रामचरित मानस और बजरंग बाण के कैसेट बज रहे हैं।

अलीगंज के नया हनुमान मन्दिर, पुराना हनुमान मन्दिर, हनुमान सेतु, छांछी कुआ हनुमान मन्दिर, पक्कापुल स्थित लेटे हुए हनुमान मन्दिर में भोर से ही भक्तों का दर्शन करने का क्रम शुरु हुआ जो अनवरत जारी है। इसके अलावा हजरतगंज के हनुमान मन्दिर, रकाबगंज चैराहा स्थित हनुमान मन्दिर, राणाप्रताप मार्ग स्थित जल निगम के सामने हनुमान मन्दिर, आईटीआई चैराहा अलीगंज हनुमान मन्दिर, इन्दिरानगर सी ब्लाक हनुमान मन्दिर, नाका चैराहा के हनुमान गढ़ी मन्दिर, दुबग्गा के बरदानी हनुमान मन्दिर, आलमबाग के शिवमूर्ति हनुमान मन्दिर, पंचमुखी बालाजी मन्दिर, चारबाग के त्रिलोचन हनुमान मन्दिर, इन्दिरानगर के भूतनाथ मन्दिर, सीतापुर रोड स्थित हाथी बाबा मन्दिर, डालीगंज के बिहारी जी मन्दिर, सहित अन्य मन्दिरों में भक्तों ने दर्शन किए।

इसी तरह लक्ष्मण टीले के पास लेटे हुए हनुमान मन्दिर, चारबाग स्थित हनुमान मंदिर, आलमबाग स्थित सनातम धर्म मन्दिर , शिव मंदिर कृष्णानगर के सेसौवीर मंदिर, श्री दुर्गा मंदिर, श्री शनिदेव मन्दिर एलडीए कालोनी में भी श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper