ज्योतिष के हजार उपाय में से ये एक उपाय ऐसा, जिससे बदल जाएगी आपकी किस्मत

ज्योतिष में अनेक ऐसे उपाय बताए गए हैं जिन्हें करने से फ़ौरन ही लाभ मिल जाता है फिर चाहे समस्या कितनी ही बड़ी क्यों न हो। आज हम आपके लिए लेकर आए हैं कुछ ऐसे ही आसान उपाय। सुबह-सुबह पूजा करते समय आरती के लिए दीपक में दो लौंग या फिर कपूर में दो फूल डाल कर आरती करने से सारे बिगड़े काम आसानी से होंगें।

अगर आपको पैसों से संबंधी कोई भी परेशानी आ रही है तो फिर आप पांच दाने काली मिर्च के लें। फिर इन दानो को अपने सिर पर से सात बार घुमाकर इन दानों को ले जाकर किसी चौराहे या फिर किसी सुनसान जगह पर चारों दिशाओं में चार दानों को फेंक दें। फिर उसके बाद पांचवे दाने को आसमान की तरफ फेके। वापस आते समय पीछे मुड़कर ना देखें।

अगर बहुत ज़्यादा मेहनत करने के बाद भी आपका काम नहीं हो पा रहा है तो फिर एक नींबू के ऊपर चार लौंग लगा दें और ॐ श्री हनुमते नम: के मंत्र का इक्कीस बार जाप करके उस नींबू को अपने साथ लेकर जाएं। भगवान ने चाहां आपकी इच्छा ज़रूर पूरी होगी।

अगर आपका मन बहुत ज़्यादा अशांत रहता है और किसी भी काम में दिल नहीं लगता तो फिर एक कपूर व एक फूल वाली लौंग जलाकर 2 से 3 दिन में एक बार खा लें। मन को शांति मिलेगी।

घर से बाहर जाते समय घर के मेन गेट पर एक काली मिर्च रखें और फिर स काली मिर्च पर अपना पैर रखकर घर से बाहर निकलें। लेकिन ध्यान रहे इसके बाद वापस मुड़कर किसी भी चीज के लिए घर में वापस से प्रवेश न करें। ऐसा करने से आपकी हर मनोकामना संपूर्ण होगी।

जब भी आपको बहुत ज्यादा टेंशन हो रही हो या दिल में बुरे-बुरे ख्याल आ रहे हो तो एक लोटे में पानी भर कर इस लोटे को अपने सिर के ऊपर से उसार कर सड़क पर फेंक दें। इससे तुरंत ही आराम मिलेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper