टमाटर के उपयोग से 45 फीसदी कम हो जाता है कैंसर का खतरा

नई दिल्ली: हाल ही में हुए एक शोध के मुताबिक टमाटर कैंसर को रोकने के लिए भी प्रयोग में लाया जा सकता है। शोध में यह कहा गया है कि अगर हफ्ते में कम से कम दस बार टमाटर का सेवन किया जाए तो आप में कैंसर होने की आशंका 45 फीसदी तक कम हो जाती हैं। टमाटर में ऐसे पौष्टिक तत्वों की भरमार होती है जो प्रोस्टेट कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में काफी मददगार होती है। इसके अलावा टमाटर में कैरोटिनॉयड नाम का तत्व पाया जाता है जो ट्यूमर को कम करने में काफी मदद करता है।

इसमें मौजूद लाइकोपीन नाम का रसायन कैंसर से लड़ने की योग्यता रखता है। टमाटर को नियमित रूप से सलाद में इस्तेमाल कर पेट के कैंसर के खतरे को 60 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। अन्य खाद्य पदार्थों को जब हम फ्राई करते हैं तो उनके पोषक तत्व कम हो जाते हैं, जबकि टमाटर के पोषक तत्व उसे पकाने, फ्राई करने के बाद भी वैसे ही रहते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि टमाटर में पाया जाने वाला लाइकोपीन नाम का रसायन कैंसर कोशिकाओं को तितर-बितर करने में माहिर है।

इसके अलावा टमाटर में आइकोपीन तथा बीटा कैरोटिन काफी मात्रा में पाए जाते हैं। बीटा कैरोटिन की खासियत यह होती है कि वह शरीर में जाकर विटामिन ए में बदल जाता है। यह विटामिन ए हड्डियों के कैंसर में काफी लाभकारी है। इसलिए रोज टमाटर खाना लाभकारी है। टमाटर लगभग हर मौसम में मिलने वाली सब्जी है। खाने के अलावा टमाटर का प्रयोग ब्यूटी ट्रीटमेंट के तौर पर भी किया जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper