‘टाइगर मामू’ अभी जिंदा है चिंता की कोई बात नहीं: शिवराज

सीहोर: मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य के सत्तारूढ दल कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा है कि बुधनी की जनता को जिंता करने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि टाइगर मामू अभी जिंदा है, पहले कलम से काम करते थे अब लड़कर काम करवाएंगे। चौहान कल अपने पुत्र कार्तिकेय के साथ अपने विधानसभा क्षेत्र बुधनी में जनता का आभार व्यक्त करने पहुंचे थे। उन्होंने ग्रामीण भाइयों को संबोधित करते हुए कहा कि बुधनी की जनता को चिंता करने की कोई बात नहीं है, टाइगर मामू अभी जिंदा है।

उन्होंने कहा कि मेरे हटते ही बिजली जाने लगी है, कर्जमाफी में कांग्रेस का ढुलमुल रवैया चल रहा है। कभी कहते हैं कि जो डिफाल्टर है उनका कर्ज माफ होगा, तो कभी कहते हैं एक मार्च तक का कर्ज माफ करेंगे।उन्होंने कहा कि हम तो अभी तक का पूरा कर्जा माफ कराएंगे। उन्होंने कहा कि अभी तक कलम से काम करता था अब लड़कर काम कराऊंगा, किसी भी का काम रुकेगा नहीं। उन्होंने कहा फिलहाल मेरा एक ही काम है, जो काम मंजूर है उन्हें तत्काल पूरा किया जाए, एक भी योजना बंद नहीं होनी चाहिए, सभी योजनाएं चालू रहे।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री रहते हुए गेहूं के लिए 2100 और सोयाबीन के लिए 500 एडवांस में डलवाए हैं। सस्ती बिजली हमने दी है। यह योजनाएं पूरी तरह जारी रहना चाहिए, कोई भी योजना बंद हुई तो हम आंदोलन करेंगे।पूर्व मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र में पहुंचने पर ग्रामीण क्षेत्रों ने उनकी भव्य अगवानी कर जगह-जगह उनका स्वागत किया। वह चुनाव परिणाम के बाद मतदाताओं का आभार व्यक्त करने पहुचे थे। इस दौरान चौहान करीबन एक दर्जन गांव पहुंचे जिनमे खजूरी, आमाडो, बिलपाती, आमघिर और भेसना गांव प्रमुख हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper