टूट सकता है एलियन से मिलने का सपना

वॉशिंगटन: धरती के अलावा ब्रह्मांड के किसी और ग्रह पर जीवन की क्या उम्मीद है, ऐसे सवाल हमारे दिमाग में आते रहते हैं। हालांकि अब तक एलियन के अस्तित्व का कोई सुराग वैज्ञानिकों के हाथ नहीं लगा है। मगर एक अध्ययन में कहा गया है कि अगर धरती से इतर कहीं जीवन है तो जब तक एलियन का संदेश धरती तक पहुंचेगा, तब तक बहुत देर हो चुकी होगी। स्विट्जरलैंड के वैज्ञानिकों का कहना है कि मुमकिन है कि कोई कुशल एलियन धरती तक अपने संदेश भेजने की कोशिश कर रहा हो।

हो सकता है कि जब तक उसका संदेश पहुंचे या हम उसे समझने में सक्षम हों, तब तक वे नष्ट हो चुके हों। उनका यह आकलन इस तथ्य पर आधारित है कि सुदूर स्थित कोई सभ्यता अपने संदेश हम तक पहुंचाने के लिए रेडियो सिग्नल का इस्तेमाल करती है। यह संदेश तीन लाख किलोमीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से आगे बढ़ते हैं। यह गति हमें सुनने में काफी तेज लगती है। लेकिन अंतरिक्ष के संदर्भ में यह काफी धीमी है। हमारी आकाशगंगा ही एक लाख प्रकाश वर्ष दूर तक फैली हुई है। हालांकि इंसान भी पिछले करीब 80 वर्षों से रेडियो तरंगों के जरिए एलियन को संदेश भेज रहा है।

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि अब तक ये तरंगें आकाशगंगा के अधिकतम 0.001 फीसदी तक ही पहुंच पाई होंगी। प्रमुख शोधकर्ता डॉक्टर क्लॉडियां ग्रिमाल्डी ने कहा कि एलियन से संपर्क की संभावना इसलिए भी कम है, क्योंकि वैज्ञानिकों का दावा है कि कोई भी सभ्यता एक लाख साल से अधिक नहीं चलती। यह अध्ययन साइंस न्यूज में प्रकाशित हुआ है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper