ट्रंप की मध्यस्थता की पेशकश को भारत ने ठुकराया, कहा- चीन के साथ शांतिपूर्ण समाधान के लिए बातचीत जारी

नई दिल्ली: भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की ओर से मध्‍यस्‍थता की पेशकश को भारत ने ठुकरा दिया है। विदेश मंत्रालय ने ने इस मामले में रुख साफ करते हुए कहा है कि चीन के साथ सीमा विवाद के शांतिपूर्ण समाधान के लिए बातचीत जारी है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने कहा कि भारत और चीन की सैन्य स्तर के साथ-साथ राजनयिक स्तरों पर बातचीत हो रही है। दोनों देशों ने सीमा पर शांति और शांति बनाए रखने के लिए कई प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर किए हैं। इस मुद्दे पर कई समझौते हुए हैं।

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव कहते हैं, “राजनयिक मोर्चे पर दिल्ली और बीजिंग के बीच मामले के समाधान के लिए बातचीत चल रही है। उन्‍होंने कहा कि हमारे सैनिकों ने सीमा प्रबंधन और कड़ाई से प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए बेहद जिम्मेदार दृष्टिकोण अपनाया है। इसके साथ ही साथ ही, हम अपनी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करेंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने बुधवार को कहा था कि वो भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को सुलझाने के लिए मध्यस्थता करने को तैयार हैं और ऐसा करने में सक्षम भी हैं। उन्होंने ट्वीट किया था, ‘हमने भारत और चीन, दोनों को सूचित कर दिया है कि अमेरिका उनके बढ़ते सीमा विवाद में मध्यस्थता करने को तैयार, इच्छुक और सक्षम है।’

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने ऑनलाइन प्रेस ब्रीफिंग में बताया कि भारतीय सैनिकों ने बॉर्डर मैनेजमेंट का बड़ी जिम्मेदारी के साथ सम्मान किया है। उन्होंने कहा, ‘भारतीय सैनिक मुद्दे को सुलझाने के लिए चीन के साथ हुए द्विपक्षीय समझौतों के तहत निर्धारित प्रक्रियाओं का कठोरता से पालन कर रहे हैं।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper