ट्रंप के चुनाव प्रचारकों पर फेसबुक यूजर्स का डाटा चुराने का आरोप, जांच शुरू

वॉशिंगटन: फेसबुक ने डोनाल्ड ट्रम्प को वर्ष 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में जीत में कथित मदद करने वाली प्रचारक डाटा फर्म ‘कैम्ब्रिज ऐनलिटिकल’ को निलंबित कर दिया है। इस फर्म ने पांच करोड़ फेसबुक यूजर्स की निजी जानकारी चुराई थी और इस जानकारी का चुनाव के दौरान इस्तेमाल किया गया था। फेसबुक के उपकानूनी सलाहकार पॉल ग्रेवाल ने अपने ब्लॉग में कहा कि इस मामले की जांच की जा रही है और जांच पूरी होने तक निलंबन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर कानूनी कदम भी उठाया जा सकता है।

ट्रम्प के चुनाव प्रचार में महत्वपूर्ण भूमिका को लेकर हाल ही में कैम्ब्रिज ऐनलिटिकल सुर्खियों में आया था। ट्रम्प के पूर्व सलाहकार स्टेव बननॉन इसके बोर्ड के निदेशक थे। रिपोर्टों के अनुसार कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अलक्संड्र कोगन ने वर्ष 2015 में एक ‘पर्सनालिटी ऐप’ बनाया था और उससे चुनाव को लेकर जनमानस के रूझान और पसंद नापसंद के बारे में व्यापक जानकारियां एकत्र की थीं। उन्होंने बाद में डाटा को कैम्ब्रिज ऐनलिटिकल और उसकी मुख्य कंपनी स्ट्राटेजिक कम्युनिकेशंस समेत तीसरी पार्टी को बेच दिया था।

ग्रेवाल ने कहा, हमें जानकारी मिली थी कि कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के प्रोफेसर कोगन ने वर्ष 2013 में ‘दिसयोरडिजिटललाइफ’ नामक ऐप बनाया था और करीब दो लाख 70 हजार लोगों तक इससे पहुंच बनी थी। लोगों ने चुनाव से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर राय दी थी और अन्य लोगों के संपर्क सूत्र और पता मुहैया कराया था। प्रोफसर कोगन ने डाटा को डिलीट नहीं किया था और उसे बेच दिया था, जो फेसबुक की नीतियों के खिलाफ है। उन्होंने कहा, फेसबुक ने यह सूचना सामने आने पर डाटा को तुरंत डिलीट करने को कहा था।

लेकिन डिलीट करने का आश्वासन देकर घपला करते हुए डाटा को बेच दिया गया, जो ट्रंप की जीत में मददकार साबित हुआ। ग्रेवाल ने कहा कि कंपनी के खिलाफ कानूनी कदम उठाए जा सकते हैं। इस मामले में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय की फिलहाल कोई टिप्पणी नहीं आयी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper