ट्रेन के हॉर्न में छुपा है राज क्या जानते है आप, क्यों बजते हॉर्न

भारतीय रेल में तो आपने कई बार सफर किया होगा रेल्वे के बारे में कई सारी बातें आप जानते भी होंगे जैसे रेल के रंगों का क्या राज है रेल के टिकट पर लिखे अक्षरों का राज और रेल के इंजन पर लिखे अक्षरों का सीक्रेट ये सारी स्टोरी आप यूथेन्स न्यूज पर पढ़ चुके हैं अब हम आपके लिए लाए हैं रेल्वे से जुड़ी एक और महत्वपूर्ण और इंट्रेस्टिंग जानकारी आपको याद होगा कि जब भी आप ट्रेन में बैठते हैं और ट्रेन चलने वाली होती है तो ट्रेन हॉर्न बजाती है अगर आपने ध्यान से सुना हो तो ट्रेन के अलग-अलग स्टाइल होते हैं कभी ट्रेन एक लंबा हॉर्न बजाती है तो कभी रूक-रूक कर क्या आप जानते हैं कि ट्रेन इस तरह से हॉर्न क्यों बजाती है और उनका क्या मतलब होता है आपको इन्हीं हॉर्न के बारे में हम बताने वाले हैं।

1. वन शॉर्ट हॉर्न- ये आपने बमुश्किल ही सुना होगा क्योंकि ट्रेन जब ये हॉर्न बजाती है तो इसका मतलब होता है कि ट्रेन का यार्ड में जाने का समय आ गया है और उसे अगली यात्रा के लिए ट्रेन की सफाई करने का समय आ गया है।

2. टू शॉर्ट हॉर्न- आप जब ट्रेन में यात्रा शुरू करते हैं ते आपने सुना होगा कि ट्रेन चलने से पहले दो छोटी सीटियां बजाती है इसका मतलब ये होता है कि ट्रेन यात्रा करने के लिए तैयार है।

3. थ्री स्मॉल हार्न- ये हॉर्न बहुत ही कम केस में बजाया जाता है इस हॉन को मोटरमेन द्वारा दबाया जाता है इसका मतलब होता है कि मोटरमेन का मोटर से कंट्रोल खत्म हो गया है इस हॉर्न से पीछे बैठे गार्ड को निर्देश दिया जाता है कि वो वैक्यूम ब्रेक लगाए ये काफी इमरजेंसी वाली सिचुएशन में ही यूज किया जाता है जब इंजन पर कंट्रोल खो दिया जाता है तब।

4. फोर स्मॉल हॉर्न- ट्रेन अगर चार हॉर्न दे तो इसका मतलब होता है कि ट्रेन में टेक्नीकल खराबी है और ट्रेन आगे नहीं बढ़ सकती।

5. थ्री लॉन्ग और टू शॉर्ट हॉर्न- इस हॉर्न में तीन बार लंबा हॉर्न तथा दो बार छोटा हॉर्न बजाया जाता है इसे मोटरमैन द्वारा बजाया जाता है जो गार्ड के लिए होता हैं।

6. लगातार बजने वाला हॉर्न- जब भी कोई इंजन लगातार हॉर्न बजाता है तो इसका मतलब होता है कि ट्रेन स्टेशन पर रूकेगी नहीं। ये यात्रियों के लिए होता है ताकि वे जान सके कि ट्रेन इस स्टेशन पर रूकेगी नहीं।

7. दो बार रूककर हॉर्न- ये हॉर्न रेल्वे क्रासिंग के पास बजाया जाता है ताकि वहां खड़े लोगों को संकेत मिले और वे रेल्वे लाइन से दूर हट जाए।

8. दो लंबे और एक छोटे हॉर्न- इस हॉर्न का प्रयोग उस समय होता है जब ट्रेन, ट्रैक चेंज करती है।

9. छः बार छोटे हॉर्न- इस हॉर्न का प्रयोग उस समय किया जाता है जब ट्रेन किसी मुसीबत में होती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
loading...
E-Paper