ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर स्मृति ईरानी का शायराना अंदाज, बोलीं- एक चालान तो तेरा भी बनता है

यूपी।  जिस दिन से ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों की परेशानी दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। जब से चालान की कीमतों में इजाफा हुआ है तब से हर कोई अपने कागजात पूरे करने में जुटा हुआ है। कोई पेट्रोल पंप पर धुएं की जांच करा रहा है तो कोई सरकारी ऑफिसों के बाहर गाड़ियों के कागज पूरे करा रहा है। इसी ट्रैफिक पुलिस  और उनके चालानों के बीच बीजेपी की मंत्री स्मृति ईरानी का एक पोस्ट भी वायरल हो रहा है।

बता दें कि बीजेपी की नेता स्मृति ईरानी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक स्टोरी लगाई। इस पोस्ट में चालान का जिक्र करते हुए उन्होंने लिखा कि ‘जिस रफ्तार से तू निकल रही है ना जिंदगी, एक चलान तो तेरा भी बनता है।

Paresh Rawal

@SirPareshRawal

View image on Twitter
822 people are talking about this

मोटर व्हीकल संशोधन अधिनियम पास होने के बाद यातायात नियमों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई शुरू हो गई है। पूरे देश में एक सितंबर से लागू हुए इस अधिनियम से खलबली मची हुई। ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों पर नए अधिनियम के मुताबिक जुर्माना लगाया जा रहा है। हालांकि कुछ राज्यों ने इन्हें लागू नहीं करने का फैसला किया है।

अभी हाल ही में भुवनेश्वर में कथित रूप से नशे में धुत एक ट्रैफिक नियम पर ट्रैफिक पुलिस ने 47,500 रुपये का भारी-भरकम जुर्माना लगाया था। वहीं, गुरुग्राम में एक स्कूटी के 23 हजार रुपये के पांच चालान हुए थे। चालक के मुताबिक उनकी स्कूटी की मौजूदा कीमत 15000 रुपये से अधिक नहीं है जबकि चालान 23 हजार के जुर्माने का लगा।

वहीं, सड़क परिवहन मंत्रालय ने बताया है कि 5 सितंबर तक हरियाणा में ही अभी तक नए कानून के तहत करीब साढ़े तीन सौ चालान काटे गए हैं। इनसे जुर्माने के तौर पर 52 लाख रुपये से अधिक की राशि इकट्ठी की गई है। अगर ओडिशा की बात करें तो वहां अभी तक चार हजार से भी ज्यादा चालान काटे गए हैं। इनसे 88 लाख रुपये से अधिक की राशि एकत्रित की गई, वहां 46 वाहन जब्त कर लिए गए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper