डाइबिटीज और मोटापे से हो सकता है कैंसर

पेरिस: दुनियाभर में 8 लाख से भी ज्यादा ऐसे लोगों को कैंसर हुआ है, जो मोटापे और डाइबिटीज की बीमारी से ग्रस्त हैं। यह बात एक स्वास्थ्य पत्रिका में छपी रिसर्च में सामने आई है। इस रिसर्च में दावा किया गया है कि आज के जीवन में आम बन चुकी मोटापे और मधुमेह की बीमारियों के कारण लोगों में कैंसर जैसे जानलेवा रोग होने का खतरा काफी ज्यादा बढ़ गया है।

इस शोध के अनुसार साल 2012 में ऐसे 8 लाख से ज्यादा लोगों में कैंसर पाया गया, जो मोटापे और डाइबिटीज से ग्रस्त थे। इस शोध में विज्ञानिकों ने पाया कि 12 प्रकार के घातक कैंसरों में से एक तिहाई कैंसर इन दोनों समस्याओं के कारण ही हुए। इस रिसर्च के मुताबिक ज्यादा वजन और मधुमेह की बीमारी से होने वाला कैंसर पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में दोगुना ज्यादा होता है।

शोध में आगाह किया गया है कि अगले 20 सालों से भी कम समय में इन दो कारणों से होने वाला कैंसर महिलाओं में 30 प्रतिशत बढ़ सकता है। वहीं पुरुषों में ये 20 प्रतिशत बढ़ सकता है। इस रिसर्च से जुड़े एक वैज्ञानिक का कहना है, मोटापे से कैंसर होता है, यह बात पहले भी सामने आ चुकी थी। लेकिन डाइबिटीज भी कैंसर को जन्म देती है, ये हाल ही में पता चला है।

उन्होंने कहा कि अकेले मधुमेह या फिर मोटापे के साथ, हर साल हजारों की संख्या में लोगों को कैंसर होता है। इस शोध में सामने आया है कि पुरुषों में 40 प्रतिशत लिवर कैंसर मधुमेह और मोटापे की वजह से ही होता है। वहीं महिलाओं में एक तिहाई यूटेरीन कैंसर और ब्रेस्ट कैंसर के लिए डाइबिटीज और मोटापा जिम्मेदार हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper