डिलीवरी के बाद फुले हुए पेट को अंदर करने के लिए महिलाएं अपनाएं ये तरीके

लखनऊ: प्रेग्नेंसी में डिलीवरी के बाद महिलाएं अपने फिगर को लेकर परेशान रहती हैं। महिलाओं को ज्यादा टेंशन जब होती है तब पेट फुल जाता है। इसे अंदर करने के लिए कई तरीके अपनाती हैं, लेकिन कुछ असर नहीं होता। अगर आप भी प्रेग्नेंसी के बाद फुले पेट से हैं परेशान, तो अपनाएं ये अचूक उपचार…

1. पौष्टिक आहार
खाने में पौष्टिक आहार का सेवन करें। हेल्दी डाइट से ज्यादा से ज्यादा लें।
2. ओट्स खाएं
अपने ब्रेकफास्ट में रोज ओट्स खाएं। इससे आपका पेट कम होना शुरू हो जाएगा।
3. वॉक करें
डिलवरी के बाद रोजाना धीरे-धीरे 10 मिनट से 20 मिनट की वॉक जरूर करें।
4. स्तनपान
स्तनपान करवाने से 500 कैलोरी रोजाना बर्न होती है। इसलिए अगर आप अपने शिशु को ज्‍यादा देर तक स्‍तनपान करवाएंगी, आपकी कैलोरी उतनी ही ज्‍यादा बर्न होगी।
5. भरपूर नींद लें
डिलीवरी के बाद नींद पूरी होना मुश्किल हो जाता है। बेबी को संभालने के चक्कर में पूरी नींद हो पाती। तो आप कम से कम 6 घंटे की नींद जरूर लें।
6. स्ट्रेस ना लें
प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेस को कंट्रोल में रखना बेहद जरूरी है। स्ट्रेस की वजह से ब्लड कॉर्टिसॉल की मात्रा बढ़ती है जिसकी वजह से मोटापा बढ़ने लगता है।
7. हाइड्रेड रहें
पानी ज्यादा से ज्यादा पीएं। जिससे हाइड्रेड की समस्या ना हो।
8. एक्‍सरसाइज
प्रेग्नेंसी के बाद शरीर में काफी कमजोरी आ जाती है। दो-तीन महीने बाद बॉडी एक्‍सरसाइज के लिए तैयार हो जाती है। रोजाना 30 मिनट के लिए लाइट एक्‍सरसाइज जरूर करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper