डॉर्क चॉकलेट और कॉफी के दीवाने को कम होता है कैंसर

लंदन: कुछ ऐसे फल, सब्‍जियां या चीजें होती हैं, जिन्‍हें खाने पर कड़वा स्‍वाद महसूस होता है। कॉफी, डार्क चॉकलेट या ब्रोकली का कड़वा स्‍वाद जिन महिलाओं को अच्‍छा लगता है, उन्हें कैंसर होने की आशंका काफी कम होती है। इनके मुकाबले इस कड़वेपन को महसूस करने वाले लोगों को कैंसर होने की आशंका 60 फीसदी अधिक होती है। यह दावा है शोधकर्ता वैज्ञानिकों का। पेनसिल्‍वेनिया स्‍टेट यूनीवर्सिटी में हुए शोध में कहा गया है कि कई हरी सब्‍जियों में यह केमिकल मौजूद होता है। इसे पीटीसी या फेनाइलथियोकैबामाइड कहते हैं।

यह कुछ लोगों को बिलकुल महसूस नहीं होता है, जबकि कुछ लोगों को इसी वजह से कड़वा स्‍वाद महसूस होता है। डार्क चॉकलेट, कॉफी और ब्रोकली में लाखों लोगों को इस केमिकल की वजह से कड़वा स्‍वाद अखरता है। विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे लोगों को कैंसर होने की आशंका अन्‍य के मुकाबले अधिक होती है।यह शोध 60 साल से अधिक उम्र की 5500 महिलाओं पर 20 साल तक किया गया। इसमें देखा गया कि जिन महिलाओं को हरी सब्‍जियों या पीटीसी की मौजूदगी वाली अन्‍य चीजों में कड़वा स्‍वाद नहीं महसूस होता है वह कैंसर के प्रति अधिक सुरक्षित हैं।

इस अध्‍ययन में विशेषज्ञों ने यह भी दावा किया कि जिन महिलाओं को हल्‍का-फुल्‍का पीटीसी का स्‍वाद अनुभव होता है उन्‍हें कैंसर होने की आशंका अन्‍य के मुकाबले 40 फीसदी तक है। शोधकर्ताओं का कहना है कि आनुवांशिक कारणों से कुछ लोगों को पीटीसी के स्‍वाद का एहसास नहीं होता है। काफी लोगों को कैफीन वाले ड्रिंक में, शराब या पत्‍तागोभी, फूल गोभी और ब्रोकली में पीटीसी का अनुभव होता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper