डॉ. अम्बेडकर को श्रद्धांजलि देकर मायावती बोलीं अब देवी-देवताओं को बांट रही भाजपा

लखनऊ ब्यूरो। बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने गुरुवार को डॉ. भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस के अवसर पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा हनुमान जी को दलित कहने पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने पहले जाति के आधार पर लोगों को बांटा और अब देवी-देवताओं को भी बांट रही है।

मायावती ने कहा कि बाबा साहेब ने भारत के संविधान में ‘एक वोट एक मूल्य’ की अवधारणा देकर एक समतामूलक समाज की कल्पना की थी लेकिन केंद्र में बैठी भाजपा सरकार इस संविधान को फेल कर देना चाहती है। देश का किसान भाजपा सरकार की नीतियों से परेशान है। यहां तक कि फसल बीमा योजना का असली लाभ गरीब किसानों को नहीं बल्कि कुछ अमीरों को हुआ है।

मायावती ने कहा कि महिलायें सुरक्षा व सम्मान के लिये बेचैन हैं तथा करोड़ों बेरोजगार कालेधन की वापसी व रोजगार नहीं मिलने से आहत हैं, परन्तु भाजपा व आरएसएस एण्ड कम्पनी के लोग अपनी डफली बजा रहे हैं कि ‘मन्दिर ज़रूर बनायेंगे’। मायावती ने हनुमान मंदिरों में दलित पुजारियों की मांग को लेकर भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने यह बात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उस बयान के संदर्भ में कही जिसमें उन्होंने भगवान हनुमान को दलित समाज का बताया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper