तलाक के बाद पत्नी को नहीं देना चाहता था फूटी कौड़ी, इसलिए जला दिए 7 करोड़ रुपये

ओटावा: तलाक के बाद पत्नी को गुजारा-भत्ते के रुप में इतनी बड़ी रकम नहीं देनी पड़े, इसलिए कनाडा के एक बिजनेसमैन ने 7.13 करोड़ रुपये (10 लाख डॉलर) जला दिए। यह अजीबो-गरीब घटना कनाडा में सामने आई है, जहां बिजनेसमैन ब्रूस मक्कोनविले ने कोर्ट को बताया कि उसने छह बैंक अकाउंट्स से पैसे निकलवाए और उनमें आग लगा दी। अदालत की अवमानना में उसे 30 दिन की सजा सुनाई गई है।

ब्रूस ने जस्टिस केविन फिलिप्स को बताया कि उसके 6 बैंक अकाउंट्स थे। उसने 25 बार में इन खातों से करीब 7.13 करोड़ रुपए निकालकर जला दिए। उसने कोर्ट को यह भी बताया कि इन रुपयों को जलाने का उसके पास न तो कोई गवाह है और न ही कोई सबूत है क्योंकि यह कोई ऐसी चीज नहीं थी जो मैं आम तौर पर करता हूं। इस मामले में कोर्ट ने अपने आदेशों का उल्लंघन करने के जुर्म में ब्रूस को एक महीने की जेल की सजा सुनाई है।

लोगों को ब्रूस की बात पर यकीन नहीं हो रहा था, लेकिन जब उसने सभी बैंकों से निकाले गए रुपयों की रसीद दिखाई, तो यकीन हुआ। ब्रूस ने जिन रुपयों में आग लगाई थी, उसे उसने प्रॉपर्टी बेच कर जमा किए थे। उसने अपनी जिंदगीभर की कमाई को सिर्फ इसलिए आग के हवाले कर दिया क्योंकि उसे पत्नी को कुछ भी नहीं देना पड़े। ब्रूस की इस हरकत से बेहद नाराज जस्टिस ने कहा कि यह हरकत व्यक्तिगत तौर और सार्वजनिक नजरिए से भी गैरजिम्मेदाराना है। इस सजा के लिए कोर्ट ने ब्रूस को 30 दिन के लिए जेल भेज दिया। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा है कि उसे रोजाना अपनी पूर्व-पत्नी को 2000 डॉलर देने होंगे, जब तक कि वह कोर्ट के सामने अपनी मंगेतर को पेश नहीं करता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper