तिरुवनंतपुरम में कैदियों का मेल ब्यूटी पार्लर शुरू, दावा- यहां सेवाएं मार्केट से सस्ती

तिरुवनंतपुरम. केरल के तिरुवनंतपुरम में पूजापुरा सेंट्रल जेल प्रशासन ने पुनर्वास मिशन के तहत मेंस ब्यूटी पार्लर शुरू किया है। इसे 20 कैदी चलाते हैं। यहां बाल काटने, सेविंग, से लेकर स्पॉ, मेनीक्योर, पेडिक्योर और फेशियल किया जाता है। इसे शहर के एक पुराने भवन को रिनोवेट कर बनाया गया है। इसमें 9 लाख रुपए का खर्च आया। दावा है कि यहां दी जाने वाली सेवाएं बाजार की तुलना में सस्ती हैं। इसका उद्घाटन सोमवार को किया गया।

सेंट्रल जेल पूजापुरा के सहायक अधीक्षक ग्रेड 1 रतीश आरसी ने बताया कि सभी कैदियों को इसके लिए प्रशिक्षित किया गया है। इन सभी की ड्यूटी शिफ्ट में लगाई जाती है। जल्द ही सीनियर सिटीजन के लिए एक अलग जगह तय की जाएगी, जहां मसाज की सेवा भी उपलब्ध होगी। जेल अधिकारियों के मुताबिक, पॉलर की शुरुआत कैदियों को मुख्यधारा में लाने के प्रयासों के तहत की गई है। यह कैदियों के पुनर्वास के लिए पहले किए गए प्रयासों से भी अलग है। केरल में कैदियों द्वारा संचालित होने वाला यह दूसरा ब्यूटी पार्लर है। इससे पहले कुन्नूर सेंट्रल जेल द्वारा एक ब्यूटी पार्लर संचालित है।

पार्लर का पैसा कल्याण कोष में जमा होगा

जेल महा निदेशक ऋषिराज सिंह ने बताया, पार्लर का आइडिया यातायात कमिश्नर श्रीलेखा ने दिया। हालांकि, इसके लिए फंड की कमी सबसे बड़ी चुनौती थी, लेकिन हमने एक पार्लर को शुरु किया है। इस प्रयास से मिलने वाला रुपया कैदियों के कल्याण कोष में जाएगा। इससे ऑनलाइन सेवाओं जैसे दूसरे प्रयास हो सकेंगे। इससे पहले कैदी तिरुवनंतपुरम, त्रिशूर, कन्नूर और कोझीकोड के पेट्रोल पंप पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। जल्द ही 10 नई जेलों के लिए ऐसा ही प्रस्ताव तैयार किया जाएगा।

महिला कैदियों के लिए भी पार्लर शुरू करेंगे

कमिश्नर श्रीलेखा ने बताया, पार्लर के लिए अधिकारियों ने कैदियों को प्रशिक्षित किया है। पार्लर में सेवा का कार्यकाल पूरा करने के बाद वह कही भी यह काम कर सकते हैं। हम जल्द ही महिला कैदियों के लिए भी पार्लर की शुरुआत करने वाले हैं। ताकि यहां से निकलने के बाद वह बेरोजगार न रहें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper