तिहाड़ जेल में कैदियों से खाली कराए फ्लैट में रुकेगा पवन जल्लाद

नई दिल्ली: दिल्ली की तिहाड़ जेल मुख्यालय से चंद कदम दूर स्थित सेमी ओपन जेल के एक फ्लैट से 3 कैदियों को दूसरे कमरे में स्थानांतरित किया गया है। सूत्रों का कहना है कि इस कमरे को जल्लाद पवन के लिए खाली कराया गया है। इस कमरे में उसके ठहरने का इंतजाम किया जाएगा। बताया गया कि पवन के लिए एक फोल्डिंग बैड, रजाई और गद्दे की व्यवस्था की है। उसका भोजन कैंटीन में तैयार किया जाएगा। वह 30 जनवरी को तिहाड़ पहुंच जाएगा।

सूत्रों के अनुसार तीन नंबर जेल में बंद निर्भया के चारों दोषी मुकेश, अक्षय, पवन और विनय की मंगलवार सुबह करीब 11 बजे जेल के ही अस्पताल में मेडिकल जांच कराई गई। सुबह विनय ने अपने पेट में दर्द होने की शिकायत की थी। डॉक्टरों ने उसकी जांच की और दवाई दी।

इस संबंध में जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि शाम को भी चारों की जांच कराई। इनकी सभी रिपोर्ट सामान्य आईं। बताया गया कि मंगलवार रात उनकी सुरक्षा के लिए सेल के आसपास चार-चार सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। इनमें जेल के वार्डन तथा टीएसपी के पुलिसकर्मी शामिल हैं।

जेल सूत्रों के मुताबिक, मंगलवार शाम सेमी ओपन जेल में बने एक फ्लैट को खाली कराया गया। इस फ्लैट में वे तीन कैदी रह रहे हैं, जिनकी सजा के 13 साल पूरे हो चुके हैं। इन तीनों को अन्य कैदियों के साथ रखा गया है। खाली कराया गया फ्लैट पवन जल्लाद के लिए रखा गया है। 30 जनवरी को पवन जल्लाद तिहाड़ पहुंच रहा है। यहां वह 1 फरवरी की दोपहर तक रहेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper