तूफान से मिले जख्मों पर पीएम मोदी ने लगाया मरहम, पश्चिम बंगाल को 1 हजार करोड़ के पैकेज का ऐलान

कोलकाता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पश्चिम बंगाल में अम्फान तूफान से हुई तबाही का हवाई सर्वेक्षण कर जायजा लिया। मोदी ने केंद्र की तरफ से बंगाल को 1 हजार करोड़ रुपये मदद का ऐलान करते हुए उम्मीद जताई कि बंगाल फिर से उठ खड़ा होगा। पीएम मोदी ने कहा कि वह दुख की घड़ी में पश्चिम बंगाल के साथ हैं। पीएम ने कहा कि बंगाल कोरोना और अम्फान जैसी दो आपदाओं से एकसाथ लड़ रहा है।

हवाई सर्वे के बाद पीएम मोदी ने कहा कि जब देश में कोरोना वायरस का संकट है, तब पूर्वी क्षेत्र में तूफान ने प्रभावित किया। पीएम मोदी ने कहा कि राज्य और केंद्र सरकार दोनों ने इस तूफान को लेकर तैयारी की थी, लेकिन इसके बावजूद 80 लोगों की जान हम नहीं बचा पाए हैं। इस तूफान की वजह से काफी संपत्ति का नुकसान हुआ है, जिसमें घर उजड़े हैं और इंफ्रास्ट्रक्चर को बड़ा नुकसान हुआ है।

पीएम मोदी ने कहा कि अम्फान चक्रवात से निपटने के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने मिलकर भरसक प्रयास किया, लेकिन उसके बावजूद करीब 80 लोगों का जीवन नहीं बचा पाए, इसका हम सभी को दुख है और जिन परिवारों ने अपना स्वजन खोया है उनके प्रति केंद्र और राज्य सरकार की संवेदनाएं हैं।

सीएम ममता बनर्जी, राज्यपाल जगदीप धनखड़ और राज्य के अन्य अधिकारियों के साथ सुपर साइक्लोन अम्फान पर पीएम नरेंद्र मोदी ने बशीरहाट में समीक्षा बैठक की। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को धन्यवाद करते हुए कहा कि मैं ईमानदारी से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी को धन्यवाद देती हूं, क्योंकि एम्फन चक्रवात की वजह से संकट के इस अभूतपूर्व समय में बंगाल के लोगों के लिए अपने समर्थन और चिंताओं को व्यक्त करने के लिए व्यक्तिगत रूप से आपने मुझे फोन किया। हम बेहद आभारी हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper