तेजस्वी बोले- नीतीश को लगता है मोदी से डर

पटना: राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को निशाने पर लेने का कोई मौका नहीं चूकते। मोदी की अररिया में होने वाली रैली के बहाने उन्होंने एक बार फिर प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश को अपने टारगेट पर लिया और एक के बाद एक कई ट्वीट कर डाले।

उन्होंने लिखा कि नीतीश को मोदी से डर लगता है, वहीं मोदी के बिहार से किए वादों को पूरा नहीं करने को लेकर भी उन्होंने निशाना साधा। तेजस्वी ने अपने ट्वीट में नीतीश के बारे में लिखा ‎कि नीतीश जी को मोदी का इतना डर है कि बेचारों ने भाजपा के चलते अभी तक अपना घोषणा पत्र भी जारी नहीं किया है? प्रधानमंत्री ने पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में पीयू को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा देने की मुख्यमंत्री की मांग को ठुकरा नीतीश जी को जो हड़काया था तब से वो भीगी बिल्ली बने हुए हैं।

नेता प्रतिपक्ष ने इससे पहले एक ट्वीट में यूपीए सरकार को बेहतर बताते हुए मोदी पर तंज कसते हुए लिखा ‎कि कृपया ऐसे किसी प्रॉजेक्ट का नाम बतायें जिसका बिहार में आपने स्वयं शिलान्यास और उदघाटन किया? जिस हाइवे के पास सभा करेंगे उसे यूपीए ने ही बनाया था। यूपीए ने बिहार को 1 लाख 44 हजार करोड़ की परियोजनाएं दी थी। आपने तो केवल थोथी बयानबाज़ी की है। एक के बाद एक ट्वीट करते हुए तेजस्वी यादव ने जिस तरह मोदी और नीतीश पर निशाना साधा है इससे ये साफ जाहिर है कि वह लगातार फ्रंटफुट पर खेलने की कोशिश कर रहे हैं। बहरहाल देखना दिलचस्प होगा कि आने वाले समय में भाजपा और जेडीयू की ओर से इस पर क्या प्रतिक्रयाएं आती हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper