दक्षिण बंगाल के जिलों में तेज हवाएं, भारी बारिश

कोलकाता: सुपर साइक्लोन (चक्रवात) से कमजोर होकर ‘बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान’ में तब्दील हो चुके चक्रवात अम्फान के बुधवार दोपहर और शाम के बीच बंगाल में दस्तक देने की आशंका है, जबकि दक्षिण बंगाल के जिलों में सुबह से ही तेज हवाएं चलने के साथ भारी बारिश होने लगी। अम्फान ओडिशा में पारादीप से 155 कलिोमीटर दूर दक्षिण-दक्षिण पूर्व में केंद्रित है, यह दीघा से 177 किलोमीटर दूर दक्षिण में और कोलकाता से 260 किलोमीटर दूर है, यह पिछले 6 घंटों के दौरान 22 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ा है।

मौसम विभाग के सूत्रों के अनुसार, अम्फान उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ेगा और सुंदरबन क्षेत्र के करीब स्थित दीघा और हटिया द्वीप के बीच पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तट रेखा से होकर गुजरेगा। पूर्वी मिदनापुर, दक्षिण 24-परगना और उत्तर 24-परगना सहित पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों से 3 लाख से अधिक लोगों को पहले ही निकाला जा चुका है। दक्षिण बंगाल के अन्य जिलों जैसे पश्चिम मिदनापुर, हावड़ा, हुगली, और कोलकाता में भी चक्रवाती तूफान के दौरान भारी बारिश होगी, जो 1999 के बाद से बंगाल की खाड़ी में सबसे भीषण तूफान होगा।

पूर्वी रेलवे (ईआर) के सूत्रों ने बताया कि बुधवार को 02301 हावड़ा-नई दिल्ली एसी स्पेशल एक्सप्रेस का प्रस्थान रद्द कर दिया गया है। इसी तरह 21 मई को 02302 नई दिल्ली-हावड़ा एसी स्पेशल एक्सप्रेस भी रद्द रहेगी। पश्चिम बंगाल आपदा प्रबंधन प्राधिकरण स्थिति पर पैनी नजर रखे हुए है। राज्य सचिवालय नबन्ना में एक नियंत्रण कक्ष खोला गया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मुख्य सचिव राजीव सिन्हा के नेतृत्व में एक टास्क फोर्स का गठन किया है, जो चक्रवात अम्फान के दौरान राहत और बचाव कार्यों की निगरानी करेगा।

सूत्रों ने बताया कि पूर्व मिदनापुर, पश्चिम मिदनापुर, दक्षिण 24-परगना, उत्तर 24-परगना, हुगली और हावड़ा सहित पश्चिम बंगाल के छह जिलों में कम से कम सात एनडीआरएफ की टीमें तैनात की गई हैं। पश्चिम बंगाल के अलावा, गुरुवार तक ओडिशा, सिक्किम और मेघालय के लिए भी चेतावनी जारी की गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper