दरवाजे की ओर पैर करके न सोना, होगा बड़ा नुकसान

घर के दरवाजे का अपना महत्व होता है, अधिकांश घरों में घर के दरवाजे को सजा कर रखने या उस पर वंदनवार या तोरण लगाते हैं, लेकिन क्या आप जानते है कि घर के दरवाजे की ओर पैर करके सोना नुकसानदायक होता है।

दरवाजे की ओर पैर करके नहीं सोना चाहिए। फेंगशुई के अनुसार दरवाजे की ओर पैर करके सोने से घर में कलह होती है। बीमारी व अन्य मुसीबतें व्यक्ति के जीवन में आती हैं। यहां तक माना जाता है कि यह मृत्यु के देवता को आमंत्रण जैसा ही है, अत: दरवाजे की ओर पैर करके सोने से बचना ही चाहिए।

अगर आप अपना कल्याण चाहते हैं तो दरवाजे की ओर पैर करके नहीं सोना चाहिए। सोते समय हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपका सिर या पैर सीधे दरवाजे की ओर न हो। इस स्थिति का मनुष्य के जीवन में बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है, इसलिए अपना पलंग हमेशा दरवाजे से दायी या बायीं ओर सरका देना ही श्रेयस्कर होता है। फेंगशुई में इस अप्रिय स्थिति में बचने का सहज उपाय बताया गया है।

फेंगशुई का यह मानना काफी हद का व्यवहारिक दृष्टि से उचित ही है, क्योंकि द्बार जिससे हम कक्ष में प्रवेश करते हैं, या कोई दूसरा उसमें प्रवेश करता है और हम वहां उस व्यक्ति का स्वागत पैर करके करें तो यह व्यवहारिक दृष्टि से भी कहां तक उचित कहा जा सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper