दलालों का अड्डा बना मध्य प्रदेश का सचिवालय: शिवराज

हैदराबाद: बीजेपी के उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस के डूबते हुए जहाज को बचाने की अंत तक कोशिश करने के बजाय वह इससे कूदने वाले पहले व्यक्ति है। चौहान ने हैदराबाद में पत्रकारों से कहा, हमने सुना है कि जब कोई जहाज डूब रहा होता है, तो वह कैप्टन होता है जो उसे बचाने के लिए अंत तक उस पर रहता है। लेकिन कैप्टन सबसे पहले कांग्रेस के जहाज से कूद गया है।

वहीं मध्य प्रदेश सरकार पर कटाक्ष करते हुए शिवराज ने कहा कि एमपी का सचिवालय दलालों का अड्डा बन गया है। शिवराज ने राहुल पर निशाना साधते हुए कहा कि किसी को पता नहीं है कि कांग्रेस का अध्यक्ष कौन है। उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टियां बुरी स्थिति में है। उत्तर प्रदेश में एसपी और बीएसपी अलग हो गए हैं और राहुल गांधी डूबते जहाज से कूद गए हैं। चौहान ने कहा कि बीजेपी का उद्देश्य 2023 में तेलंगाना में अगले विधानसभा चुनावों के बाद सरकार बनाने का है।

मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार की स्थिरता के विषय में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह सरकार एसपी, बीएसपी और निर्दलीयों के समर्थन से बनाई गई थी। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री चौहान ने आरोप लगाया कि मध्य प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति खराब हो गई है और सचिवालय दलालों का अड्डा बन गया है। चौहान ने दावा किया कि विधानसभा चुनाव में उनकी सरकार जाने का लोगों को पछतावा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने मध्य प्रदेश में लोकसभा की एक सीट को छोड़कर सभी सीटों पर जीत दर्ज की थी। लेकिन उनकी पार्टी राज्य सरकार को गिराने का कोई प्रयास नहीं करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper