दाद से छुटकारा पाने का घरेलू उपाय है टी ट्री ऑइल

लंदन: बदलते मौसम के साथ होने वाली बीमारी दाद अथवा रिंगवर्म से छुटकारा पाने का सबसे अच्छा और असरकार घरेलू उपाय है, टी ट्री ऑइल। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह तेल त्वचा के लिए इतना अधिक फायदेमंद है कि अब तेजी के साथ स्किन केयर प्रॉडक्ट्स में इसका उपयोग बढ़ रहा है। टी ट्री ऑइल ना केवल स्किन को खूबसूरत और बेदाग बनाने में मददगार है बल्कि यह दाद जैसी त्वचा की कई बीमारियों को ठीक करने में भी मददगार है। अगर आपको दाद की समस्या है तो कॉटन की मदद से उस पर टी ट्री अप्लाई करें।

ऐसा दिन में 2 से 3 बार करें। शुरुआत में आपको हल्की जलन हो सकती है लेकिन थोड़ी देर बाद यह जलन शांत हो जाएगी साथ ही आपको खुजली में भी आराम महसूस होगा। इस तरह टी ट्री ऑइल का उपयोग करने से मात्र 4 से 5 दिन के अंदर आप दाद की समस्या से काफी हद तक छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन अगर आपकी त्वचा बहुत अधिक संवेदनशील है तो आपके लिए जरूरी है कि आप टी ट्री ऑइल को सीधे त्वचा पर अप्लाई ना करें। बल्कि लगाने से पहले इसे 50-50 रेश्यो में नारियल ऑइल के साथ मिला लें।

इससे यह डायल्यूट हो जाएगा और आपकी संवेदनशील त्वचा पर इसके कारण ड्राइनेस या दूसरी समस्याएं नहीं होंगी। मालूम हो कि बदलते मौसम में अक्सर दाद या रिंगवर्म की समस्या हो जाती है। ऐसा ज्यादातर उन लोगों में देखने को मिलता है, जिनकी त्वचा बहुत अधिक संवदेनशील होती है। जबकि कुछ लोगों सर्दियों में इस तरह की दिक्कत ज्यादा होती है और कई लोगों में स्किन प्रॉब्लम्स का कारण वुलन कपड़ों से एलर्जी होती है। अगर आप भी इस तरह की दिक्कत का सामना हर बार मौसम बदलने पर करते हैं तो आप बहुत ही आसान तरीके से इन समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

मराठी की उभरती गायिका गीता माली की सड़क दुर्घटना में मौत, पति की हालत गंभीर

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper