दिल्ली का पॉवर एलीट समूह 14 दिसंबर को क्यों जा रहा है अयोध्या?

नई दिल्ली: दिल्ली के पॉवर एलीट से जुड़ा एक विशिष्ट समूह 14 दिसंबर को अयोध्या जाने के लिए तैयार है। ऐसा महज अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के एक महीने बाद हो रहा है। वे विभिन्न क्षेत्रों से आते हैं, लेकिन भारत के ऐतिहासिक ‘गर्व’ को लेकर एक दूसरे से जु़ड़े हैं। प्रसिद्ध रक्षा विशेषज्ञ अभिजीत अय्यर-मित्रा ने कहा, “मैं नास्तिक हूं। मेरे पास प्रार्थना करने का कोई कारण नहीं है। लेकिन, यह प्रयास भारत के अतीत में मेरे विश्वास और उसके गौरव पर विश्वास करने का है।”

यह कार्यक्रम समान विचारधारा वाले लोगों का सामूहिक प्रयास कहा जा रहा है। इस कार्यक्रम में दिल्ली के पॉवर सर्किट के लोग शामिल है। इनमें टीवी पैनलिस्ट, सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर व भाजपा के सदस्य शामिल हैं। यह सभी 14 दिसंबर को अयोध्या में रामलला के दर्शन के लिए जाएंगे। सूत्रों का कहना है कि अब तक 40 लोगों ने इसका हिस्सा बनने की इच्छा जाहिर की है और संख्या आगे बढ़ने की उम्मीद है। यह समूह 14 दिसंबर को सुबह अयोध्या पहुंचेगा और एक दिन बाद लौटेगा।

विकास पांडेय पेशे से एक सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट हैं और जाने माने सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर है। वह ‘आई सपोर्ट नमो’ चलाते हैं जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थन में एक पहल है। वह भी इस समूह का हिस्सा हैं। विकास पांडेय ने कहा, “लोग फैसले के बाद अत्यधिक उत्साहित हैं। हम केवल दर्शन ही नहीं करेंगे, बल्कि सरयू नदी के घाटों पर आरती का भी प्रावधान है। वहां एक कार्यशाला में भी भाग लेंगे।”

पांडेय ने कहा कि स्थानीय सांसद लल्लू सिंह अयोध्या यात्रा की योजना में मदद कर रहे हैं, जिसे अब ‘चलो अयोध्या’ के नाम से पुकारा जा रहा है। चारू प्रज्ञा भी चलो अयोध्या का हिस्सा होंगी। चारू प्रज्ञा भाजपा की मीडिया पैनलिस्ट हैं और साथ ही साथ भाजपा की यूथ विंग की नेशनल इंचार्ज (लीगल) हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper