दिल्ली में चालान के डर से कंडोम रखकर घूम रहे कैब ड्राइवर, पुलिस ने बताई नियम की सच्चाई

नई दिल्ली: दिल्ली में कैब ड्राइवर चालान के डर से फर्स्ट एड बॉक्स में कंडोम रखकर चल रहे हैं. कैब ड्राइवरों का कहना है कि कंडोम नहीं रखने से उनका चालान कट सकता है. वहीं दिल्ली पुलिस के विशेष पुलिस आयुक्त (यातायात) ताज हसन ने शनिवार को नियम की सच्चाई बताई.

समाचार एजेंसी एएनआई ने कई कैब ड्राईवर से बात की जिसमें उन्होंने दावा किया कि फर्स्ट एड किट्स में अन्य दवाओं के साथ कंडोम लेकर चलना होता है. अगर फर्स्ट एड किट में कंडोम नहीं मिलता है तो पुलिस चालान काट देती है. कैब ड्राइवर कमलेश ने दावा किया, “हमने कभी भी कैब में कंडोम रखने का कारण पुलिस से नहीं पूछा लेकिन अगर फर्स्ट एड किट्स में यह नहीं मिलता तो चालान कट जाता है.”

एक अन्य कैब ड्राइवर रमेश कुमार ने दावा किया कि उसका एक बार चालान इसी सिलसिले में कट चुका है लेकिन दिल्ली में नहीं.” रमेश कुमार ने कहा, “मुझे याद है कि जयपुर में एक पुलिसकर्मी ने मेरे फर्स्ट एड किट में कंडोम नहीं मिलने पर मेरी गाड़ी का चालान काटा था. एक अन्य कैब ड्राइवर अजय ने कहा, “मैं फर्स्ट एड किट्स में कंडोम रखता हूं, यह कंडोम कुछ समय के लिए रिसाव को रोक सकता है. हालांकि चेकिंग के दौरान कभी किसी ने मुझसे इसे दिखाने के लिए नहीं कहा.”

उधर, इस मामले में स्पेशल पुलिस कमिश्नर (ट्रैफिक) ताज हसन ने सफाई देते हुए इससे साफ इनकार किया है. ताज हसन ने कहा- मोटर व्हीकल एक्ट में कंडोम को लेकर ऐसा कुछ भी नहीं लिखा है. हम फर्स्ट एड किस्ट्स में कंडोम नहीं होने पर चालान नहीं काट रहे हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper