दिल्ली में दो तो मध्य प्रदेश-राजस्थान में 20 रुपए किलो बिक रहा है टमाटर

नई दिल्ली: इन दिनों टमाटर के दो रंग देखने को मिल रहे हैं। एक तरफ जहां राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की मंडियों में टमाटर दो रुपए किलो बिक रहा है तो मध्य प्रदेश और राजस्थान में इसकी कीमत आसमान छू रही है। जयपुर मंडी में टमाटर के दाम एक हफ्ते पहले की तुलना में दोगुने हो गए हैं। एक हफ्ते पहले तक जो टमाटर 4-5 रुपए किलो थोक के भाव आते थे, आज सात रुपए किलो में आ रहे हैं। मध्य प्रदेश में भी यही हाल है। एक सप्ताह पहले जो टमाटर 10 रूपए किलो ग्राहकों को मिल रहा था, वह अब बढ़कर 20 रूपए किलो हो गया है।

मंडी में सब्जी की दुकानों पर टमाटर कम मात्रा में दिख रहे हैं। भोपाल के सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि टमाटर मंडी में कम आ रहा है, जिसकी वजह से इसकी कीमत ज्यादा है। उनका कहना है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार हुई बढ़ोतरी भी टमाटर के महंगे होने का एक बड़ा कारण है। इंदौर में भी टमाटर महंगा हो गया है। मंडी में टमाटर तो है, लेकिन इसके खरीदारों में कमी आई है। मध्य प्रदेश और राजस्थान में ज्यादातर टमाटर महाराष्ट्र से आते हैं, जहां मंडियों में इस समय टमाटर महंगा है। वहां से लाने में पहले की तुलना में ज्यादा खर्च लगता है।

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी भी इसकी एक वजह है। उत्तर भारत में गर्मी की वजह से टमाटर तेजी से पक रहे हैं और इसी वजह से किसान तेजी से मंडी में टमाटर लेकर आ रहे हैं। यहां टमाटर मंडी में दो से तीन रुपए किलो की कीमत से बिक रहा है। ओखला मंडी के एक मंडी कारोबारी का कहना है कि हमें इस व्यापार में कोई बचत नहीं हो रही है। हम दो रुपए किलो में टमाटर बेच रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper