दिल्ली में विपक्षी पार्टियों का फिर पड़ाव ,ममता दीदी बैठेंगी धरने पर

दिल्ली ब्यूरो: दिल्ली में विपक्षी राजनीतिक दलों का फिर जमघट लग रहा है। देश भर के राजनीतिक दल दिल्ली पहुँच रहे हैं। बड़ा राजनीतिक जलसा होना है। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी फिर से मोदी सरकार पर हमला करने जा रही है। 13 -14 फरवरी को वह दिल्ली में धरना देगी। उम्मीद है कि पिछले महीने कोलकाता में आयोजित ममता की रैली में जो नेता या दल शरीक नहीं हुए थे, वे अब दिल्ली में शरीक होंगे और मोदी की राजनीति पर हमला करेंगे।

खबर है कि ममता के इस प्रदर्शन में पूर्वोत्तर भारत के साथ ही दक्षिण भारत कभी कई पार्टियां हिंसा लेने जा रही है। चंद्रबाबू नायडू तो सोमवार से ही दिल्ली में भूख हड़ताल पर बैठ गए है। आंध्रा को विशेष राज्य का दर्जा की मांग वे कर रहे हैं साथ ही आगामी चुनाव को लेकर मोदी सरकार को घेरने से भी बाज नहीं आ रहे। सभी दलों ने नायडू के हड़ताल का समर्थन किया है। राहुल गांधी भी नायडू के पास पहुंचे हैं।

सोनम कपूर के बेडरूम की ये प्राइवेट तस्वीर हो रही वायरल, देखकर लोगों ने कहा- बेशर्मी की हद कर दी

ममता का प्रदर्शन केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ होना है। केंद्र सरकार पर प्रादेशिक पार्टियों को दबाने और केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग का मुद्दा बना कर वे दिल्ली में धरने पर बैठेंगी। पिछले दिनों कोलकाता में उनके धरने के दौरान कई पार्टियों के नेता पहुंचे और उसमें शामिल हुए। जो नहीं पहुंचे उन्होंने फोन करके ममता के धरने का समर्थन किया, जैसे राहुल गांधी और मायावती ने किया। अब उनको लग रहा है कि दिल्ली में उन्होंने धरना दिया तो ज्यादा से ज्यादा विपक्षी पार्टियां उसमें शामिल होंगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper