दिल्ली में हुई हिंसा के लिए केंद्र सरकार दोषी, अमित शाह इस्तीफा दें: सोनिया

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दिल्ली में हुई हिंसा के लिए केंद्र सरकार को दोषी ठहराते हुए गृह मंत्री अमित शाह से इस्तीफा और राजधानी में शान्ति बहाल करने के लिए तत्काल कदम उठाने की मांग की है। श्रीमती गांधी ने आज अचानक कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस बुला कर राजधानी की स्थिति पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए यह मांग की। उन्होंने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने भडक़ीले बयान देकर लोगों को भडक़ाया और दंगे का माहौल बनाया और इसकी साजिश रची।

उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पर भी सवाल उठाया कि वे दोनों पिछले रविवार से क्या कर रहे थे और उन्होंने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कोई कार्रवाई क्यों नहीं की। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि शाह इस घटना की जिम्मेदारी लेकर इस्तीफा दे क्योंकि इस हिंसा के लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने यह भी कहा कि यह घटनाएं सोची-समझी साजिश के तहत की गयी है और भाजपा नेताओं ने डर और नफरत का माहौल बनाया तथा पुलिस हालात पर काबू नहीं कर पाई।

श्रीमती गांधी ने यह सवाल उठाया कि अर्धसैनिक सुरक्षा बलों को क्यों नहीं तैनात किया गया। उन्होंने दिल्ली के हर जिले में नागरिकों की शान्ति समितियां गठित करने की मांग की और यह भी कहा कि कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य प्रभावित इलाकों में जाकर हिंसा में पीडि़त परिवारों से मिलेंगे और समर्थन देकर शांति एवं सौहार्द का माहौल बनाएंगे। संवादादता सम्मेलन में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद के अलावा कांग्रेस के शीर्ष नेता भी मौजूद थे। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस दौरान बताया कि कांग्रेस का एक शीर्ष प्रतिनिधिमंडल इस संबंध में आज राष्ट्रपति भवन की ओर मार्च कर एक ज्ञापन राष्ट्रपति को देने वाला था लेकिन राष्ट्रपति से आज सुबह मुलाकात नहीं हो पाने के कारण मार्च कल निकाला जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper