दुनिया का सबसे बड़ा कब्रिस्तान, जहां 50 लाख से भी ज्यादा मुर्दे हैं दफन

नई दिल्ली: दुनिया के लगभग हर कोने में आपको कब्रिस्तान देखने को मिल जाएंगे (चाहे वो छोटा हो या बड़ा) जहां मृत लोगों को दफनाया जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया का सबसे बड़ा कब्रिस्तान कहां है? आपको जानकर हैरानी होगी कि दुनिया के इस सबसे बड़े कब्रिस्तान में 50 लाख से भी ज्यादा मुर्दे दफन हैं। यह कब्रिस्तान आकार में एक शहर के बराबर है।

इस कब्रिस्तान का नाम है ‘वादी-अल-सलाम’, जो इराक के नजफ शहर में स्थित है। करीब 1485 एकड़ में फैला यह कब्रिस्तान ‘वैली ऑफ पीस’ के नाम से मशहूर है, जिसे देखने के लिए लाखों लोग आते हैं।

कहते हैं कि इस कब्रिस्तान में हर रोज लगभग 200 मुर्दों को दफनाया जाता है। दरअसल, यहां पर इतने आतंकी हमले होते हैं कि हर रोज काफी संख्या में लोग मारे जाते हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, आईएसआईएस के आतंक से पहले यहां हर साल लगभग 100-120 मुर्दों को दफनाया जाता था, लेकिन हाल के दिनों में 150-200 लोगों को हर दिन दफनाया जाता है।

इस कब्रिस्तान में एक मकबरा भी बना हुआ है, जहां के बारे में कहा जाता है कि आईएसआईएस के खिलाफ लड़ने वाले लड़ाके इस मकबरे में आकर मन्नत मांगते हैं कि अगर लड़ाई में उनकी मौत हो जाए तो उन्हें इसी कब्रिस्तान में दफनाया जाए।

यह कब्रिस्तान शिया मुस्लिमों के बीच काफी मशहूर है। कहते हैं कि दुनियाभर के शिया खुद को दफनाने के लिए इसी जगह को पसंद करते हैं। यह कब्रिस्तान काफी पुराना है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां लोगों को दफनाने का काम पिछले 1400 सालों को चला आ रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper