देवबंद से गिरफ्तार किए जैश के दो आतंकी

उत्तर प्रदेश एटीएस को आज बड़ी सफलता मिली है। एटीएस की टीम ने तड़के सहारनपुर के देवबंद से जैश ए मुहम्मद आतंकी शहनवाज अहमद निवासी कुलगाम जम्मू-कश्मीर को गिरफ्तार किया है। शाहनवाज जैश-ए-मुहम्मद का आतंकी है। उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि शाहनवाज आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद का एक्टिव मेम्बर है। शाहनवाज के साथ ही आकिब अहमद मलिक को गिरफ्तार किया गया है। यह दोनों जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के रहने वाले हैं। वहां पर शाहनवाज को जैश-ए-मुहम्मद के लिए युवाओं को भर्ती करने का काम मिला था। ओपी सिंह ने कहा कि एटीएस की गिरफ्त में आए दोनों की उम्र 25-26 वर्ष के बीच की है। कुछ कश्मीरी देवबंद में बगैर एडमिशन में रह रहे हैं रात में यूपी एटीएस को संदिग्ध आतंकियों की जानकारी मिली।

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि अभी दोनों से पूछताछ हो रही है। हमको लगता है कि कुछ और अहम जानकारियां मिलेंगी। जो भी बड़ी जानकारी मिलेगी उसे मीडिया से साझा करेंगे। उन्होंने बताया कि शाहनवाज ग्रेनेड्स का एक्सपर्ट है। अब तो दोनों को रिमांड पर लेकर विस्तृत पूछताछ की जाएगी। इन दोनों के पास से 32 बोर की दो पिस्टल और 30 जिंदा कारतूस मिले। इसके साथ ही दोनों से जेहादी चैट्स मिले हैं। इन दोनों का पुलवामा आतंकी हमले से लिंक है या नही ये कहना अभी मुश्किल है। हम पूछताछ के बाद ही यह क्लियर कर पाएंगे।

डीजीपी ने कहा देवबंद में कल रात ऑपरेशन में जैश ए मुहम्मद के संदिग्ध आतंकी जम्मू कश्मीर निवासी शाहनवाज और आकिब अहमद मलिक को पकड़ा गया है। डीजीपी ने कहा शाहनवाज और आकिब अहमद मलिक दोनों लोग जैश ए मोहम्मद के लिए भर्ती का काम करते हैं। शाहनवाज कुलगाम और आकिब पुलवामा का रहने वाला है। दोनों को लखनऊ एटीएस कोर्ट में पेश किया जायेगा। पुलिस कस्टडी रिमांड पर पूछताछ होगी। दोनों यह छात्र बनकर देवबंद के एक संस्थान में अवैध ढंग से रहकर अन्य युवको को आतंकी संगठन से जोड़ने का काम कर रहे थे।

इस्लामिक स्टडी के बड़े सेंटर के रूप में विख्यात सहारनपुर के देवबंद में यूपी एटीएस के इस छापा से खलबली मची है। माना जा रहा है जम्मू-कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले में शाहनवाज का हाथ हो सकता है। एटीएस ने देवबंद में आज तड़के छापा मारकर संदिग्धों से पड़ताल की है। इसमें से एक संदिग्ध शाहजवाज को लखनऊ लाया गया है जबकि तीन से सहारनपुर में पूछताछ चल रही है। देवबंद से कश्मीर के साथ ओडिशा के कुछ छात्रों को हिरासत में लिया गया।

एटीएस ने गुरुवार देर रात देवबंद के मोहल्ला खानकाह के निकट नाज मंजिल में छापेमारी की। बताया जाता है कि यहां से दुकानदार सहित दो कश्मीरी छात्र व पांच ओडिशा के छात्रो को हिरासत में लिया था जिनमें शहनवाज शामिल था। बताया जा रहा है कि शहनवाज जैश ए मोहम्मद के इशारे पर काम करता था। एटीएस ने कल देर रात से देवबंद में छापा मारने का अभियान शुरू किया था। यहां एटीएस ने मोहल्ला खानकाह के निकट नाज मंजिल में छापेमारी कर एक दुकानदार सहित दो कश्मीरी छात्र व पांच ओडिशा के छात्रों को हिरासत में लिया। सहारनपुर पुलिस को इस बड़ी छापामारी की भनक तक नहीं लगी। एटीएस सभी को अपने साथ गुप्त स्थान पर ले गई है। इनमें से शाहनवाज को लखनऊ लाया गया है।

शाहनवाज जम्मू-कश्मीर में जैश-ए-मोहम्मद के इशारे पर काम करता था। शाहनवाज के साथ हिरासत में लिए गए दोनों कश्मीरियों को पुलवामा आतंकी हमले की पूरी जानकारी थी। उनके मोबाइल से जैश ए मोहम्मद सहित तमाम आतंकियों की वीडियो बरामद किया गया है। आतंकी हमले से जुड़ी जानकारियां भी एटीएस को मिलीं। शाहनवाज जैश-ए-मोहम्मद के इशारे पर युवाओं को आतंकियों की टीम में भर्ती कराता था। एटीएस ने सुबह की गई कार्रवाई में 11 कश्मीरी के साथ उड़ीसा के कुछ छात्रों को हिरासत में लिया था, जिनमें से शाहनवाज समेत एक अन्य छात्र को गिरफ्तार कर लिया गया। बाकी छात्रों से भी आगे की पूछताछ की जा रही है। माना जा रहा है कि पूछताछ में शाहनवाज अहम खुलासे कर सकता है, जो पुलवामा आतंकी हमले की जांच कर रही एजेंसियों के भी काम आ सकते हैं। सहारनपुर के देनबंद से यह पहली दफा किसी आतंकी को गिरफ्तार नहीं किया गया। इससे पहले भी कई आतंकवादियों को यहां से दबोचा है। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में पिछले हफ्ते 14 फरवरी को हुए आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper