देवरिया में कैदियों को गर्मी से बचाने के लिए जेल प्रशासन ने किये कई इंतजाम

देवरिया: उत्तर प्रदेश के देवरिया जिला जेल में कैदियों को गर्मी से बचाने के लिए जेल प्रशासन ने पहल शुरू कर दी है और बैरकों में पंखों की संख्या बढ़ाई जा रही है। सूत्रों के अनुसार मौसम के बढ़ रहे तापमान को देखते हुये जिला जेल में कैदियों को गर्मी से राहत दिलाने के लिए बैरकों में पुराने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को ठीक कराने के साथ-साथ पंखों की संख्या बढ़ाई जा रही है। बैरकों में जल्द ही कूलर भी लगाये जायेंगे। ठंडा पानी के लिए जेल में लगे आरो को चला दिया गया है।

जिला कारागार के करीब अठारह बैरकों में क्षमता से तीन गुना कैदी हैं। इस समय यहां पन्द्रह सौ से ज्यादा बंदी बंद हैं। बताया जाता है कि एक बैरक में डेढ़ सौ से अधिक की संख्या में बंदी जमीन पर सोते हैं। जिसमें करीब दस से अधिक पंखे लगे हैं। पंखे अधिकांश पुराने हो चुके हैं। जेल प्रशासन से पुराने पंखों को ठीक कराने में लग गया है। जेल प्रशासन बैरकों में कूलर लगाने का योजना बना रहा है। शासन से मंजूरी के बाद एक-एक बैरक में दो कूलर लगाने की योजना है।। मई माह तक कूलर आने की संभावना जताई जा रही है।

जेल अधीक्षक डीके पाण्डेय ने यहां बताया कि जिला जेल में देवरिया जिला के साथ कुशीनगर जिले के भी कैदी बंद होने से क्षमता से अधिक कैदी जिला जेल में हैं। गर्मी बढ़ने के साथ ही परेशानी बढ़ जायेंगी। ऐसे में बंदियों को राहत देने के लिए कूलर, पंखों की संख्या बढ़ाई जाएगी। ठंडे पानी के लिए आरो प्लांट चालू करा दिया गया है। गर्मी में बंदियों का ख्याल किया जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper