देश के लिए मिसाल बना ये ड्राइवर, खुद को बस में ही कर लिया कैद

जयपुर: कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पूरे देश को लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में पूरा देश अचानक थम सा गया है। जहां कुछ लोग शासन-प्रशासन की अपील और चेतावनी को दरकिनार कर घरों से बाहर निकलकर लॉकडाउन का उल्लंघन कर रहे हैं। वहीं कुछ लोग ऐसे में भी है जिन्होंने लॉकडाउन का पालन कर एक मिसाल पेश की है। उन्हीं में से एक राजस्थान के भरतपुर जिले के बयाना कस्बे के रहने वाले श्याम बिहारी हैं।

श्याम बिहारी पेशे से बस ड्राइवर हैं। लॉकडाउन की घोषणा के दौरान वह राजस्थान के दौसा जिले में थे। पीएम नरेंद्र मोदी और राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत द्वारा की गई लॉकडाउन की घोषणा का सम्मान करते हुए श्याम बिहारी ने खुद को बस में ही क्वारंटीन कर लिया है। लॉकडाउन की घोषणा के बाद जहां देश में अफरा-तफरी का माहौल देखने को मिला। वहीं इससे उलट बस ड्राइवर श्याम बिहारी ने लॉकडाउन की गंभीरता को समझा और भरतपुर जाने की जिद्द करने की जगह दौसा में ही बस खड़ी कर खुद को बस के अंदर क्वारंटीन कर लिया। राज बिहारी के चेहरे पर अपपने परिवार से बिछड़ने का गम नहीं हैं। वह खुश है कि उन्होंने देश हित में एक बड़ा फैसला किया है।

श्याम बिहारी बीते 14 दिनों से बस के अंदर क्वारंटीन हैं। हालांकि, उनके कई साथी पैदल या फिर मालवाहक वाहनों से अपने गांव चले गए हैं। लेकिन उन्होंने न अपने जीवन को खतरे में डाला और न ही अन्य के जीवन को। कोरोना से बचने के लिए पिछले 14 दिनों से खुद को बस में ही कैद कर रखा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper